गुरुवार, 20 मार्च 2014

सत-बहिनी

{  कत्थई-भूरे रंग की पीली चोंचवाली चिड़ियाँ होती हैं जिनका का पूरा झुंड पेड़ों पर या,क्यारियों में आँगन में उतर कर चहक-चहक कर खूब शोर मचाता है .
उनके विषय में एक  कथा प्रचलित है - सात बहनें थी,और सबसे छोटा एक भाई। सातों बहनें एक ही गाँव में ब्याही थीं। आगे कथा इस प्रकार चलती है -}

अँगना में रौरा मचाइल चिरैयाँ सत-बहिनी !
बिरछन पे चिक-चिक ,किरैयन में किच-किच
चोंचें नचाइ पियरी पियरी !चिरैयाँ सत-बहिनी ..

एकहि गाँव बियाहिल सातों बहिनी,मइके अकेल छोट भइया ,
'बिटियन की सुध लै आवहु रे बिटवा ' कहि के पठाय दिहिल मइया !

'माई पठाइल रे भइया ', मगन भइ गइलीं चिरैंयाँ सत-बहिनी !'

सात बहिन घर आइत-जाइत ,मुख सुखला ,थक भइला ,
साँझ परिल तो माँगि बिदा ,भइया आपुन घर गइला !
अगिल भोर पनघट पर हँसि-हँसि बतियइली सतबहिनी !

'हमका दिहिन भैया सतरँग लँहगा' ,'हम पाये पियरी चुनरिया' ,
'सेंदुर-बिछिया हमका मिलिगा' ,'हम बाहँन भर चुरियाँ' !
'भोजन पानी कौने कीन्हेल',अब बूझैं सतबहिनी !
'का पकवान खिलावा री जिजिया' , 'मीठ दही तू दिहली' ,
'री छोटी तू चिवरा बतासा चलती बार न किहली !'
तू-तू करि-करि सबै रिसावैं गरियावैं सतबहिनी !

'भूखा -पियासा गयेल मोर भइया , कोउ न रसोई जिमउली ,
दधि-रोचन का सगुन न कीन्हेल कहि -कहि सातों रोइली ',
उदबेगिल सब दोष लगावैं रोइ-रोइ सतबहिनी !
' तुम ना खबाएल जेठी ?', 'तू का किहिल कनइठी?' इक दूसर सों कहलीं
एकल हमार भइया, कोऊ तओ न पुछली सब पछताइतत रहिलीं !

साँझ सकारे नित चिचिहाव मचावें गुरगुचियाँ सतबहिनी !
*

20 टिप्‍पणियां:

  1. अबके बरस भेज भैया को बाबुल... और भैया बेचारे का ये हाल... बहुत प्यारी कथा... उतनी ही प्यारी बोली...!!
    माँ, मन में बस गया ये गीत!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सलिल भाई के उत्तर में ही खो गया हूँ !!
      आपको प्रणाम !!

      हटाएं
    2. रचना को दिल से पकड़ा हो जैसे सीधा ... प्रणाम है सलिल भाई ...

      हटाएं
  2. आपकी पोटली में जो नहीं सो कम है :)

    जवाब देंहटाएं
  3. पहली बार सुनी यह कथा. कितना खजाना मिला है हमें विरासत में, जिसे हम खोये दे रहे हैं.

    जवाब देंहटाएं
  4. मीठी बोली...सुरीली गाथा..

    जवाब देंहटाएं
  5. यादों की पोटली से निकली एक सुंदर कथा.

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 22/03/2014 को "दर्द की बस्ती":चर्चा मंच:चर्चा अंक:1559 पर.

    जवाब देंहटाएं
  7. चर्चा मे सम्मिलित करने हेतु ,हार्दिक आभार !

    जवाब देंहटाएं
  8. आदरणीय बहुत ही सुंदर बोली , व बोली के साथ कथा , पूरा माहौल बदल गया , धन्यवाद
    नवीन प्रकाशन -: बुद्धिवर्धक कहानियाँ - ( ~ अतिथि-यज्ञ ~ ) - { Inspiring stories part - 2 }
    बीता प्रकाशन -: होली गीत - { रंगों का महत्व }

    जवाब देंहटाएं
  9. शकुन्तला बहादुर23 मार्च 2014 को 6:47 pm

    माधुर्यमयी मनोमुग्धकारी अभिव्यक्ति हेतु साधुवाद !!

    जवाब देंहटाएं
  10. ओ! सतबहिनी को ही गीत में गाया जाता है और पूजा भी की जाती है . अब तक इसकी कहानी को जाना नहीं था अब अपने बुजुर्गों से पूछती हूँ.

    जवाब देंहटाएं
  11. पहली बार सुनी पर मन को छू गयी ... भाव और शब्दों का मिश्रण जैसे रस घोल रहा है ... झूमती हुई रचना ...

    जवाब देंहटाएं
  12. माता जी प्रणाम आपने कथा को जीवंत कर दिया
    मेरी दादी के छः बेटे किन्तु उन्हें भी यथेष्ट सम्मान मृत्यु के समय नहीं मिल पाया

    जवाब देंहटाएं
  13. मार्मिक कथा । क्या कोई बहिन इतनी लापरवाह होगी ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. लापरवाह ?वे इतने उछाह में भर गई कि सब भूल गईँ ,फिर एक दूसरे का आसरा भी . अब हमेशा रोती-पछताती लड़ती रहेंगी : हैं तो मूर्ख चिरैयाँ ही न !
      बेचारी !

      हटाएं
  14. काफी दिलचस्प पर मार्मिक। … जहाँ तक मुझे याद आ रहा है कि एक बार सतना मैहर में मैंने कुछ इसी तरह का गीत सुना था। ..

    जवाब देंहटाएं