शुक्रवार, 29 मार्च 2013

मन


जान रही हूँ तुम्हें ,समझ रही हूँ ,
तुम वह नहीं जो दिखते हो!
वह भी नहीं -
ऊपर से जो लगते रूखे ,तीखे,खिन्न!
चढ़ती-उतरती लहरों के आलोड़न ,
आवेग-आवेश के अथिर अंकन
अंतर  झाँकने नहीं देते !
*
तने जाल हटते  हैं जब, 
आघातों के वेगहीन होने पर , 
सारी उठा-पटक से परे,
एक सरल-निर्मल सतह  
की ओझल खोह से
झाँक जाता है,
शान्त क्षणों में बिंबित 
दर्पण सा मन !
ऊपरी तहों में लिपटे भी  ,
कितने  समान हम !
*

35 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर भाव. मन की बात ही कुछ ऐसी है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. माता जी प्रणाम सुप्रभात आपके लम्बे जीवन की कामना
    मन के किसी कोने में किसी का भी प्रवेश वर्जित होता है शायद वो हमारा नितांत निजी होता है जहाँ की पीड़ा किसी से कही नहीं जा सकती

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बेहतरीन प्रतिक्रिया है रमाकांत जी की !
      आभार आपका सुंदर रचना के लिए !

      हटाएं
    2. पूरी थाह पाई जा सकती या हर बात बाँटी जा सकती तो मन एक पहेली क्यों रहता -व्यक्ति स्वयं अपने मन के भंडार का केवल 10% बोध रख पाता है.

      हटाएं
  3. शांत क्षणों में बिम्बित दर्पण सा मन ...
    जो दिखता है उससे परे !
    दिल से लिखा !

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपने ही मन को समझना भी कहाँ सरल है..............

    उत्तर देंहटाएं
  5. .बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति मोदी संस्कृति:न भारतीय न भाजपाई . .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर भावात्मक प्रस्तुति,बहुत बहुत आभार आदरेया.

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऊपरी तहों में लिपटे कितने समान हम...बहुत सुंदर !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (31-03-2013) के चर्चा मंच 1200 पर भी होगी. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुंदर भाव ... बहुत खूब !


    आज की ब्लॉग बुलेटिन क्योंकि सुरक्षित रहने मे ही समझदारी है - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन का मनना क्या जानूँ,
    पहरे ताने मन ने उस पर।

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. तह दर तह लिपटते ही चले जाते हैं हम। छुप जाता है अपना ही वजूद। टटोलता है उसे कोई अपना ही..कराता है एहसास कि तुम्हारे भीतर भी एक संवेदनशील आदमी रहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह बहुत सुन्दर भावनाएं व्यक्त की आपने | बधाई

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह प्रतिभाजी ...कितना गहन सच ...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर! इसी तरह अपना आशीष बनाए रखें!

    उत्तर देंहटाएं
  16. नारियल सदृश मन की बारीक पडताल सी खूबसूरत प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत गहन और सार्थक अभिव्यक्ति..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति!!
    पधारें कैसे खेलूं तुम बिन होली पिया...

    उत्तर देंहटाएं
  19. समय के तने तने शिथिल होने पे ही हटते हैं ... फिर दिखता है कोमल मन ... निर्मल मन ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपने मन की गहराई तक देखा और जाना की दोनों के मन एक समान ही हैं ..... आम इंसान अपना मन ही नहीं देख पाता ... बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं

  21. गहन अनुभूतियों को सहजता से
    व्यक्त किया है आपने अपनी रचना में
    सार्थक रचना
    बधाई

    आग्रह है मेरे ब्लॉग jyoti-khare.blogspotin
    में भी सम्मलित हों ख़ुशी होगी

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत गहन मनन ...
    परतें चढ़ी मन पर अनेक .....अंतरमन तक पहुंचें कैसे ..???

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत गहन चिंतन मनन ...
    अंतर्मन तक पहुंचे कैसे मेरा ये मन ...मिझसे ही मैं दूर हुई ....क्यों इतनी मैं क्रूर हुई ...??

    उत्तर देंहटाएं
  24. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  25. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  26. शकुन्तला बहादुर20 अप्रैल 2013 को 10:41 am

    आवेग आवेश के अथिर अंकन - अनुपम अनुप्रास !!

    "मनः एव मनुष्याणां बन्धनमोक्षकारणम् ।"

    मानस-मंथन कर रहीं, प्रतिभा जी प्रतिपल।
    बुद्धि सहित है ज्ञान भी,रचे जो नित्य नवल।।
    नये नये भावों की करतीं,जो सुललित अभिव्यक्ति।
    मन पर छाप छोड़ती गहरी,प्रमुदित है हर व्यक्ति।।
    "मन के हारे हार है, मन के जीते जीत"।
    मेरा तो सौभाग्य यही कि,मिलीं आपसी मीत।।

    उत्तर देंहटाएं