सोमवार, 25 मार्च 2013

होली के दोहे.


*
एक रंग है प्रीत का, बाकी सब तो स्याम,
अक्षर-अक्षर तू लिखा, मैं रह गई अनाम .
 *
जो जंगल सुलगा रहे, वही पलाश बटोर,
घोल रंग होली किया, दहक रहा हर पोर .
*
उसी आग के रंग से, चूनर रँग दे श्याम ,
तन-मन ताप समा गया, अब संसार हराम .
*
क्यों साबुन रगड़े सखी,चढ़ा श्याम का रंग
फीका कैसे होयगा ,जब हो रहा अनंग.
*
मेरा  तन मत नाप रे , साजन से ले पूछ,
दरजी, तब  पोषाक में रहे न कोई चूक.
*

20 टिप्‍पणियां:

  1. होली की शुभकामनायें आपको .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति,होली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ख़ूबसूरत दोहे...होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह बेहतरीन दोहे होली के
    होली की बहुत शुभकामनायें प्रतिभा जी

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर!
    --
    आपको रंगों के पावनपर्व होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  6. होली के दोहे,
    सबका मन मोहे।

    होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  7. कितने सुन्दर दोहे है .. होली की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी रचना
    क्या बात

    होली की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  9. होली पर आप को हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  10. होली की महिमा न्यारी
    सब पर की है रंगदारी
    खट्टे मीठे रिश्तों में
    मारी रंग भरी पिचकारी
    होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह .. लाजवाब ... जीवन के रंगबिरंगे रंगों में रंगे .. दोहे ...
    आपको होली की शुभ्कम्नाये

    उत्तर देंहटाएं
  12. Preet ke rang mein doobe dohe bahut hee sunder ban pade hain Pratibhaji!
    Holi pe pranam!
    Shar

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर दोहे ....बहुत ही सुन्दर ...!!

    उत्तर देंहटाएं