बुधवार, 13 मार्च 2013

एक लोरी : मेरे बचपन की.

*
आ जा री निंदिया.
आ जा री निंदिया आ जा ,मुनिया/मुन्ना को सुला जा !

मुन्ना है शैतान हमारा .
रूठ बितता है दिन सारा .
हाट-बाट औ'अली-गली में नींद करे चट फेरी ,
शाम को आवे लाल सुलावे उड़ जा बड़ी सवेरी !
*
आ जा निंदिया आ जा तेरी मुनिया जोहे बाट ,
सोने के हैं पाए जिसके रूपे की है खाट
मखमल का है लाल बिछौना तकिया झालरदार ,
सवा लाख हैं मोती जिसमें लटकें लाल हज़ार !
*
आ जा री निंदिया आ जा!
नींद कहे  मैं आती हूँ सँग में सपने लाती हूँ .
निंदिया आवे निंदिया जाय ,निंदिया बैठी घी-गुड़ खाय,
*
(वर्षा के मौसम में जुड़ जाता -)
पानी बरसे झम-झम कर, बिजली चमके चम-चम कर
,भोर का जागा मुन्ना ,मेरी गोद में सोवे बन-बन कर .
निरख-निरख छवि तन-मन वारूँ लोर सुनाऊं चुन-चुन कर .

आजा री निंदिया.
--

19 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर और सरस लोरी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. काश कोई गाकर सुनाये इस लोरी को..

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन में भीतर तक हलचल मचा गई ...
    सुन्दर लोरी ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. इतनी सुंदर लोड़ी सुनकर निंदिया रानी तो आएगी ही ..... :)
    बहुत सुन्दर लोड़ी ...
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मनमोहक लोरी ........
    साभार........

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुचना ****सूचना **** सुचना

    सभी लेखक-लेखिकाओं के लिए एक महत्वपूर्ण सुचना सदबुद्धी यज्ञ


    (माफ़ी चाहता हूँ समय की किल्लत की वजह से आपकी पोस्ट पर कोई टिप्पणी नहीं दे सकता।)

    उत्तर देंहटाएं
  8. शुक्रिया आपकी टिपण्णी का .बहुत सुन्दर बिम्ब लिए है लोरी भाव और शब्द सौन्दर्य देखते ही बनता है .

    उत्तर देंहटाएं
  9. पलकों के बगल में नींद आकर बैठ गयी..

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर ...गुनगुनाने का मन हो रहा है ...!!:))

    उत्तर देंहटाएं