सोमवार, 4 मार्च 2013

उत्तर दोगे ?

 *
नहीं, प्रतिद्वंदिता नहीं !
सहज रूप से प्यार करती हूँ  तुम्हें!
आदर भी तुम्हारी क्षमताओं का, सामर्थ्य का!
आकाश जैसे छाये कई रूप -
पिता ,भाई ,पति, पुत्र, मित्र  ,
अभिभूत करते हैं.
जीवन के हिस्सेदार सब,
स्वीकार करती हूँ .
*
पर पुरुष मात्र होते  -
जब इनमें से कुछ नहीं
एक व्यक्ति मात्र, 
संबंधों की सीमा से  मुक्त.
तब ?हाँ ,तब--

रूप बदल लेते हो झट् से .
वह कौतुक भरी तकन
 नापती -तोलती, असहज करती नारी-तन .
नर का चोला खिसका
झाँकने लगता  पशु ,
क्या पता  कब  हो जाओ
भूखे ,आतुर, दुर्दांन्त,
रौंदने को तत्पर !
विश्वास नहीं करती,

घृणा करती हूँ तुमसे !
*
एक बात और -
 अपना कह, सब कुछ अर्पण कर
 धन्यता मानी थी!    .
पर क्या ठिकाना तुम्हारा ,
घबरा कर,ऊब कर,
आत्म-कल्याण-हित, 
परमार्थ खोजने चल दो,

कीचड़ में छोड़,
भुगतने को अकेली.
खुद का किया धरा मुझ पर लाद ,
कायर असमर्थ ,दुर्बल तुम!

*
 क्यों ? कल्याण के मार्ग 
 मेरे लिये रुद्ध हैं?
अगर हैं,
तो तुमने  रूँधे हैं ,
कि संसार 
अबाध चलता रहे !
*
 क्या कभी तुम्हें 
बीच मँझधार छोड़,
अपने लिये भागी मैं ?
- उत्तर दोगे ?
*

22 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर उद्गार हृदय के ....
    बहुत अच्छा लिखा है ...
    शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर ही होता तो ऐसा कृत्य कर पाते क्या ? सार्थक प्रश्न करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. नारी मन तेरी यही कहानी सब करती फिर भी अनजानी
    http://www.saadarblogaste.in/2013/03/15.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. नारी मन की गहरी परतों को उतार कर लिखा है ... विद्रोह को उतारू मन पर बंधन ... वो भी पुरुष समाज के खड़े किये ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. माता जी प्रणाम .निःशब्द करती अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. कोई उत्तर नहीं मिलेगा इस प्रश्न का …………शानदार अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (06-02-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस अनुत्तरित सनातन प्रश्न का उत्तर ,
    अभी तक तो नहीं मिला.....
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति
    साभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. वरण किया है, साथ अब देना पड़ेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  10. गहरी अभिव्यक्ति.....
    तो तुमने रूँधे है
    कि अबाध
    संसार चलता रहे ...वाह

    उत्तर देंहटाएं
  11. मुश्किल ही है उत्तर मिलना तो.

    उत्तर देंहटाएं
  12. prshn katin hai uttar aashan nahi hai bs yun hi zindgi ka safar jari rahe

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुतीकरण,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  14. कुछ अनुत्तरित प्रश्न जो कभी भी सामने आ जाते हैं और फिर उत्तर कौन दे?

    उत्तर देंहटाएं
  15. स्त्री और पुरुष में यही तो अंतर है... स्त्री सिर्फ अपने सुख के लिए कभी भी कर्तव्यच्युत नहीं होती...

    ''क्या कभी तुम्हें
    बीच मँझधार छोड़
    अपने लिए भागी मैं?''

    बहुत भावपूर्ण, शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  16. उलटा प्रश्न खड़ा किया जाएगा कि प्रश्न पूछने का अधिकार किसने दिया ? अति सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  17. वहा बहुत खूब बेहतरीन

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में

    तुम मुझ पर ऐतबार करो ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. alag alag teen dinon mein padhi thi ye kavita..har baar alag alag bhaav aaye mann me upje.rosh/krodh/dukh/asantushti/virodh..ye sab to sada se hi anubhav kiye kisi bhi aisi rachna par. aaj abhi jab fir padha kavita ko to nayi hi anubhooti mili..likhne me bhi ajeeb lag raha hai..''main ek tathakathit ugrawaadi vyakti hoon..jise aaj bhavishya me hone waali purushon kee dayneey sthiti par daya aa rahi hai..'' matlab..kal maine socha tha..ki uttar kya dega bhala koi...''bhavishya me jo samay aane wala hai..ki ladkiyaan bachengi hi nahin to ek aahat/kunthit/ahankaari/ekaaki purushatv swayam hi ateet ke sabhi prashnon ke ekmaatr uttar ka swaroop le lega kintu durbhaagya kahoon athva saubhaagya ki us uttar ko dekhne wala aur sunne wala bhi doosra uttar hi hoga..prashn to samaapt ho chuke honge..''

    bahut praabhavi rachna hai pratibhajee..:)
    aasha hai mahashivraatri me pratyek purush aur stri bhi apne apne andar chhupe pashu ka daman kar us par sada ke liye vijay praapt kar manushya ban sakein..amen!! :)

    उत्तर देंहटाएं
  19. ye prashn hi n uthta agar purush swarthi n hota...agar aatm-kalyaan k liye nari ko bhi sath lene ki sochta to uttar poochhne ki jarurat bhi n hoti.

    sadiyon se sankeern hridy hi raha purush.

    उत्तर देंहटाएं