सोमवार, 12 सितंबर 2016

सार्थक रहने दो शब्दों को --

*
क्या  शब्द था - दिव्य !!!
जैसे प्रसन्न आकाश , मुक्त,भव्य ,असीम .
कितना सार्थक दीप्त त्रुटिहीन .

अर्थ का अनर्थ ,
घोर अपकर्ष ,कैसी  मनमानी वंचना शब्दों से ,
कर डाला ,अपूर्ण ,विकल , विहीन.
*

 संज्ञा बदलने से गौरव  नहीं मिलता,  
 बिंब-प्रतिबिंब-सा
 है  दृष्य और दृष्टि का संबंध .
पूर्ण कौन  यहाँ ?
कहीं न कहीं सब  अधूरे .
और यही विकलता की तड़प 
नये मार्ग खोल, सारी क्षति पूर्ति के साथ 
नये अर्थ देती है .
*
 व्यक्तित्व से पाते हैं शब्द  
अर्थ और  उत्कर्ष -
जैसे सूर ,
अंधत्व को सूरत्व से प्रतिस्थापित , 
जैसे रैदास हीनता को
 गुरुत्व प्रदान कर गये .
जैसे एक दृष्टिहीन 
औरों को बना गया  समर्थ,
शब्दों का स्पर्श  दे कर .
*
एक और शब्द - हरिजन .
कितने सम्मान का पात्र रहा . 
 गिरा  डाला इसे भी -
खो बैठा वास्तविक अर्थ  और गरिमा 
बन गया  हत-नत कृपाकांक्षी   .
*
मत करो शब्दों की छीछालेदर ,
 सार्थक-समर्थ  निर्मल रहने दो ,
कि भाषा के अपने संसार में 
 पूरे अर्थ के साथ ज्योतित रहें.
आगत को संचित संस्कार देते   
अपनी विद्यमानता से 
चिरकाल धन्य करें !
*
प्रतिभा सक्सेना.

17 टिप्‍पणियां:

  1. पता नहीं समझ पाया हूँ या नहीं पर जो भाव उठा संकोच के साथ कह दे रहा हूँ आज राख और मिट्टी तक बेच लेने वालों के लिये शब्दों के कपड़े उतार कर रख देने में भी कोई शर्म कहाँ रह गयी है ? राजकाज शब्दों के श्रंगार से नहीं चलता है ।

    बहुत सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 14 सितम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिव्यता में प्रभुता है !! सार्थक सोच ,उत्कृष्ट अभिव्यक्ति !
    सादर प्रणाम .

    उत्तर देंहटाएं
  4. जहाँ तक मुझे याद है यह शब्द उस अदृश्य को दिखाने के लिए रचा गया था जो इतनी विषमताओं के मध्य न जाने किस द्वार से प्रकट हो ही जाता है न कि विकलता को दर्शाने के लिए..फिर भी आपकी चिंता अपनी जगह सही है

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (14-09-2016) को "हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा अंक-2465) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सार्थक, उपयुक्त और प्रभावी अभिव्यक्ति है , जो मन पर छा गई । अत्यन्त विचारणीय भी है । "दिव्य" शब्द एक अलौकिक आभा से मंडित था, नाम बदलने से रूप तो नहीं बदलता , व्यक्ति का उपहास मात्र होकर
    रह जाता है , खटकता है । शब्दों का ये विकृत अर्थ मन को आहत करता है । यही दुर्घटना तो "हरिजन" के साथ भी हुई है । मुझे भी ये अनर्थ काफ़ी दिनों से व्यथित कर रहा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शब्द अर्थात ओंकार का नाद .. अब तो केवल शोरगुल रह गया है ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. "जैसे एक दृष्टिहीन
    औरों को बना गया समर्थ
    शब्दों का स्पर्श देकर!"

    इन तीन पंक्तियों में शब्दों की महिमा छिपी है... वे शब्द जो चमत्कार करते हैं, क्योंकि इन शब्दों में एक पूरा व्यक्तित्व, एक संतति, एक लंबी श्रृंखला होती है.
    गांधी जी ने जब यह शब्द "हरिजन" दिया तो उसमें अन्तर्निहित भाव यह था कि एक विशाल वर्ग को एक सम्मान की छतरी दी जाए.
    किन्तु शब्दों के साथ छेड़छाड़ और उसके छिपे हुए अर्थ अपने अर्थ खोते गए... हरिजन को बहुजन बना दिया गया... और शब्द भी भाषाई गरिमा से विलग होकर राजनैतिक पंक का अविभाज्य अंग बन गए.
    पता नहीं मैं इस कविता के मर्म को स्पर्श कर पाया भी हूँ की नहीं, लेकिन भाषा की दुर्दशा पर व्यथित हूँ. मेरे मं में तो ऐसे कई शब्द कोलाहल मचाते हैं जिनके साथ दुराचार हुआ है इन दिनों.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बिलकुल ठीक समझा सलिल तुमने,बिना शब्द की पृष्टभूमि समझे प्रभाव और महत्व जाने उसे किसी बहाने से अपकर्षित कर दिया जाय तो ,आगे के लिये वह शब्द ही संस्कार-च्युत हो जायेगा और अब तक चले आ रहे भावार्थ को भी उद्विग्न कर देगा .
      देखो न ,अब तक दिव्य एक अलग ही भाव जगाता था-अलौकिक,भव्य मुक्त आदि और अब विकलांग या हीनांग के अर्थ में आये तो दिव्य वसन-भूषण पहिराये ,दिव्य तेज दिव्यरूप दिव्यांगना आदि के सारे बिंब बाधित हो जायेंगे अर्थ की रमणीयता समाप्त करता दूसरा ही विपरीत भाव सामने अड़ जायेगा .
      'मेरे मं में तो ऐसे कई शब्द कोलाहल मचाते हैं जिनके साथ दुराचार हुआ है इन दिनों.'- मानती हूँ
      कई शब्द हैं पर उदाहरण तो दो-एक के ही दिये जा सकते हैं .

      हटाएं
    2. मम्मी! मेरा इशारा उसी ओर था, किन्तु कुछ सीमाएँ होती हैं एक सरकारी अधिकारी की, जिसने मुझे रोक लिया. आपने मेरे मन की बात कह दी और मुझे संतोष हुआ कि मैंने कविता के मर्म को महसूस किया!

      हटाएं
  9. मेरी समझ में भी नही आया कि यह संज्ञा कब और किसने गढ़ी लेकिन मैंने अभी अभी सुनी और सोच में भी पड़ गई कि इसका अर्थ व उद्देश्य क्या है . क्या यह संज्ञा उस अभाव को दूर कर सकेगी . हरिजन से याद आया कि हमारे एक अध्यापक शब्द के पद-च्युत होजाने के उदाहरण स्वरूप इस शब्द का भी उल्लेख करते थे . एक अन्य उदाहरण में अरहर की टट्टी गुजराती ताला में टट्टी शब्द जब तक टटिया यानी किवाड़ के अर्थ में था तब तक ठीक था . फिर ओट के रूप में .और अन्त में विष्ठा के लिये प्रयुक्त होकर एक अच्छा खासा शब्द अपनी प्रतिष्ठा खो बैठा . सचमुच इसे शब्दों के साथ अनाचार ही कहा जाएगा . आपने एक बहुत ही अच्छा प्रश्न उठाया है .

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमेशा ही शब्दों के गहन अर्थ होते हैं लेकिन शब्दों की गरिमा को न समझ अपने हिसाब से उनको परिभाषित कर शब्दों के रूढ़ अर्थों के साथ खिलवाड़ ही है . सादर

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज शब्दों को जिस तरह लिया जा रहा है वो केवल मजाक है उनके सही अर्थों का ... इनकी गरिमा का भान न भाशाविधों को है न प्रयोग करने वालों को ...
    बहुत ही सार्थक लिखा अहि आपने ...

    उत्तर देंहटाएं