रविवार, 16 जून 2013

पितृत्व

*
नहीं, 
मैं नहीं  एकान्त निर्मात्री ,
इस सद्य-प्रस्फुट जीवन की ,
रचना मेरी, आधान तुम्हारा 
सँजो कर गढ़ दिया मैंने नया रूप .
प्रेय था !
*
पौरुष का माधुर्य छलक उठा जब
नयनों में वात्सल्य बन ,
जैसे चाँदनी में नहाई बिरछ की डाल ,
स्निग्ध कान्ति से दीप्त तुम्हारा मुख !
मुग्ध हो गई  मैं .
*
 कृतज्ञ दृष्टि कह गई -
'जहाँ मैं अगुन-अरूप-अव्यक्त रहा,
तुमने गृहण किया.
प्रतिष्ठित कर दिया मुझे!
अपने से  पार 
पुनर्जीवन पा गया मैं ,
तुम्हारे रचे प्रतिरूप में ! '
*
सृष्टि का श्रेय आँचल में समाये  
मुदित परितृप्ति का प्रसाद ,
मिल गया मुझे ,
और देहानुभूतियों से परे,
मन की विदेह-व्याप्ति ! 
   * 
- प्रतिभा सक्सेना.





24 टिप्‍पणियां:

  1. पिता के लिये बहुत ही सुंदर भाव, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर तरीके से आपने बिचारो को व्यक्त किया है..www.sriramroy.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार (18-06-2013) के चर्चा मंच -1279 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर भावभीना ......

    उत्तर देंहटाएं
  5. अत्यंत गहन एवँ उत्कृष्ट रचना ! पितृत्व की यह अनुभूति हर स्थूल आनंद से परे है ! बहुत सुंदर !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर भाव, शब्द शब्द में टपकता स्नेह।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर ... पितृत्व को सार्थक रच दिया है ।

    उत्तर देंहटाएं

  8. बहुत सुंदर भावपूर्ण पितृत्व की अभिव्यक्ति.
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post पिता
    LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !

    उत्तर देंहटाएं
  9. पिरत्व का भाव जो अधिकतर मुखर नहीं हो पाता ... आपने सहज ही लिख दिया ... नमन है मेरा ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. माता जी प्रणाम तीसरे अन्विति में पिता के अद्भुत रूप के दर्शन हुए प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  11. अद्भुत भाव ....बहुत सुंदर रचना .....प्रणाम स्वीकारें ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह....शब्दों की अद्भुत जादूगरी.....भावों को गढ़ते, एक-दुसरे में गुंथे हुए से ......

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकर।

    उत्तर देंहटाएं
  14. यदि भाषा की सुंदरता महसूस करने का मन करे तो आपको पढ़ना चाहिए ..
    प्रणाम !

    उत्तर देंहटाएं
  15. मे नही जानता क्या कहना चाहिए
    पिता का हृदय दर्शन
    उच्च कोटि का काव्य है महोदया ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. ब्लॉग बुलेटिन की ५५० वीं बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन की 550 वीं पोस्ट = कमाल है न मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  17. adbhut !! mugdh ho gaya mann bhi aur aatma bhi...ek anokha sa aanand ghul gaya mujhme is rachna ko padhne ke baad..jitni baar padha ..maadhurya badhta hi gaya...kamaal kee anubhooti hui..jo maine kabhi anubhav hi nahin ki thi..actuallly kabhi socha hi nahin ki mamta ke saath saath pitritatva bhi itna madhur aur snehil ho sakta hai :)
    dher sa aabhaar is meethi rachna ke liye..:)

    उत्तर देंहटाएं