शुक्रवार, 24 मई 2013

अनुक्रम.

क्या गाती है नदिया, चंचल जल की धारा  ,
बही जा रही बजा-बजा कर इकतारा !
 *
  पर्वत पर अल्हड़ सी  ये मीन-नयन धारे ,
मंदिर के कलशों की झिलमिल लहराती  रे .
हर पल नव-जल  गागर उच्छल हो हो छलके
  मुक्ता कण बिखऱ-बिखऱ  वन घासों पर  ढलके
चलती पल-पल अविरल , रुक नहीं कहीं पाती
आवेग-उमंग भरी ,बल-खाती बढ़ जाती !

कहता गर्वित पर्वत-
 ये चंचल जल-बाला  मेरी ही तो कन्या.
जीवन रस से सबको जो  सींच रही धन्या,
 दुर्गम पाहन अड़ते , ऊँची-नीची राहें
सागर को पाने का  व्रत पाल रही वन्या ,
 उमड़ी आती उर से, मेरी असीस-धारा !
*
 मतवाला हो बादल ,
मँडराता सागर पर भरता   भूरी छागल .
फिर उमड़, घमंड भरा चढ़ नभ में इतराता .
 मल्हार राग गाता, जम जाता पूरा  दल !
सावन में  भगत बना, आता काँवर लेकर ,
कंकर-कंकर को यो नहलाता ज्यों शंकर!
*
 नदिया-पर्वत-बादल,
फिर निर्मल  मधु-सा जल 
सागर को सौंप लवण,
 जीवन का यह अनुक्रम!
*

23 टिप्‍पणियां:

  1. नदिया, पर्वत,बादल और इनके साथ जीवन का यह अनुक्रम...सुंदर भाव और मनहर लय..आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन के अनुक्रम को खूब समझाती यह कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. नदिया-पर्वत-बादल,
    फिर निर्मल मधु-सा जल
    सागर को सौंप लवण,
    जीवन का यह अनुक्रम!

    प्रकृति जीवन के अनुक्रम को समझने में सहायक है ... बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. आत्मा तृप्त होती है आपको पढ़कर..

    उत्तर देंहटाएं
  5. अत्यंत मधुर प्रवाह ...अविरल बहता सा जीवन ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (26-05-2013) के चर्चा मंच 1256 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं

  8. प्रकृति के संग माता जी को प्रणाम दिल को छू गई सुप्रभात
    निःशब्द करती अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  9. शकुन्तला बहादुर25 मई 2013 को 10:31 pm

    प्रकृति बनी है माध्यम,जीवन-अनुक्रम समझाने को।

    कमनीय,सरस एवं प्रवाहपूर्ण मनोमुग्धकारिणी अभिव्यक्ति । साधुवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. मधुर भाव ,सुन्दर प्रवाह,प्राकृतिक जीवन का अनुक्रम समझाती सुन्दर रचना!
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post: बादल तू जल्दी आना रे!
    latest postअनुभूति : विविधा

    उत्तर देंहटाएं
  11. नदी की निराली जीवन कथा.. बहुत ही सुन्दर चित्रण

    उत्तर देंहटाएं
  12. नदिया, पर्वत, बादल ... तीनों ही तो प्राकृति की देन हैं ... और तीनों ही मनुष्य जीवन से अभिन्नता से जुडी हैं ...
    सुन्दर भाव-भंगिमा को काव्य में समेटा है ... गज़ब का चित्रण ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्रकृति से बहुत कुछ सन्देश आता है और सीखने को मिलता है. सुंदर मनभावन काव्य.

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रकृति का सुंदर तारतम्य, बहुत ही सुंदर.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  15. नदिया फिर पर्वत और फिर बादल और फिर से सागर
    जीवन का अनुक्रम भी कुछ ऐसा ही है
    सुन्दर सन्देश
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं