गुरुवार, 27 दिसंबर 2012

किं-बहुना .



तुमने जो भी दिया ,निबाहा क्षमता भर ,धर सिर-आँखों पर ,
ले इतना विश्वास , कि मेरी लज्जा-मान तुम्हीं रक्खोगे!
-
मेरी त्रुटियाँ ,दुर्बलताएँ,मेरे मति-भ्रम ,मेरे विचलन,
मेरे यत्न देखना केवल बाकी सभी तुम्हारे अर्पण ,
दिशा-ज्ञान  की कौन कहे अनजाना हो गंतव्य जहाँ पर
बोध-शोध सब परे धर दिये ,आगे ध्यान तुम्हीं रक्खोगे !
*
लीन स्वयं में करना लेना मन , सारी चित्त-वृत्तियाँ धारे
जब स्व-भाव भी डूब, विलय हो  इस अगाध सागर में खारे .
निस्पृह हो धर चलूँ यहीं पर ,राग-विराग, जिन्हे ओढ़ा था,
सारी डूब  समाई तुम में, अब संधान तुम्हीं रक्खोगे !
 *
क्षमा-दान मत दो कि,साध्य हो प्रायश्चित तप-तप कर धुलना,
निर्मलता में सँजो तुम्हारी करुणा का कण-कण किं-बहुना.
तुमसे कौन शिकायत,शंका या  आशंका चिन्ता मुझको .
मन दर्पण बन रहे तुम्हारा , तब तो भान  तुम्हीं रक्खोगे !
*
बस इतना विश्वास कि  मेरी लज्जा-मान तुम्हीं रक्खोगे!
*

22 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर भाव हैं.

    दिशा-ज्ञान की कौन कहे अनजाना हो गंतव्य जहाँ पर
    बोध-शोध सब परे धर दिये ,आगे ध्यान तुम्हीं रक्खोगे !

    जीवन में कभी किसी पर "अंधविश्वास" करना ही होता है. गणना करके भी अक्सर ऐसे उत्तर आते हैं जो अपने आप में प्रश्न होते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्षमा-दान मत दो कि,साध्य हो प्रायश्चित तप-तप कर धुलना,
    निर्मलता में सँजो तुम्हारी करुणा का कण-कण किं-बहुना.

    मन भीग गया ....लगा जैसे हमारी ही प्रार्थना है हमारे ही भाव

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्षमा-दान मत दो कि,साध्य हो प्रायश्चित तप-तप कर धुलना,
    निर्मलता में सँजो तुम्हारी करुणा का कण-कण किं-बहुना.
    तुमसे कौन शिकायत,शंका या आशंका चिन्ता मुझको .
    मन दर्पण बन रहे तुम्हारा , तब तो भान तुम्हीं रक्खोगे !
    *
    बस इतना विश्वास कि मेरी लज्जा-मान तुम्हीं रक्खोगे!

    माता जी प्रणाम और शुभ प्रभात संग आपकी निष्ठां , समर्पण और त्याग संग विश्वास की पराकाष्ठा को नमन ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति ।
    मेरी नई पोस्ट में आपका स्वागत है ।
    ख्वाब क्या अपनाओगे ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. लज्जा-मान को भी समर्पित कर देने के बाद ही मान रख लिया जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी। नव वर्ष 2013 की अग्रिम शुभकामनाओं के साथ। धन्यवाद सहित।

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्षमा-दान मत दो कि,साध्य हो प्रायश्चित तप-तप कर धुलना,
    निर्मलता में सँजो तुम्हारी करुणा का कण-कण किं-बहुना.
    तुमसे कौन शिकायत,शंका या आशंका चिन्ता मुझको .
    मन दर्पण बन रहे तुम्हारा , तब तो भान तुम्हीं रक्खोगे ...

    बहुत ही सुन्दर प्रवाहमय काव्य ... भावों से ओतप्रोत निर्मल धारा सी ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुमसे कौन शिकायत,शंका या आशंका चिन्ता मुझको .
    मन दर्पण बन रहे तुम्हारा , तब तो भान तुम्हीं रक्खोगे !

    ....समर्पित भक्ति की बहुत सुन्दर भावमयी रचना..नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  9. शकुन्तला बहादुर31 दिसंबर 2012 को 6:49 pm

    अडिग आस्था , सुदृढ़ विश्वास एवं पूर्णरूपेण समर्पण भाव की सरस प्रवाहमयी अभिव्यक्ति। मन को छू गई । साधुवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या लिख दिये हो आप, मन में ये भाव समा गए है उतर आये है

    यहाँ पर आपका इंतजार रहेगा शहरे-हवस

    उत्तर देंहटाएं
  11. पूर्ण समर्पण का भाव लिये सुंदर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं

  12. अशेष समर्पण भाव की सुन्दर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुंदर भावनात्मक प्रस्तुति !
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. अति सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी हर कविता हमारे लिए आनंद और सीख का विषय होती है। प्रेरणास्रोत होती है।
    अशेष सराहना के साथ ....

    उत्तर देंहटाएं

  16. शुक्रिया आपकी ताज़ा टिपण्णी का .विचार और भाव की बेहतरीन अभिव्यक्ति हुई है रचना में .बधाई .सुन्दर शब्द चयन .

    उत्तर देंहटाएं
  17. अथाह विश्वास और आस्था लिए सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  18. एक उत्कृष्ट विचारों की उत्कृष्ट कविता!
    कई पंक्तियाँ याद आ गईं पढ़ते ही, जैसे, "गुन तुम्हार समुझइ निज दोसा, जेहि सब भाँति तुम्हार भरोसा"

    तुमने जो भी दिया ,निबाहा क्षमता भर ,धर सिर-आँखों पर ,
    ले इतना विश्वास , कि मेरी लज्जा-मान तुम्हीं रक्खोगे! -- उत्कृष्ट
    ,
    दिशा-ज्ञान की कौन कहे अनजाना हो गंतव्य जहाँ पर
    बोध-शोध सब परे धर दिये ,आगे ध्यान तुम्हीं रक्खोगे !--- बहुत सुन्दर!
    *
    निस्पृह हो धर चलूँ यहीं पर ,राग-विराग, जिन्हे ओढ़ा था,
    सारी डूब समाई तुम में, अब संधान तुम्हीं रक्खोगे ! --- अतिसुन्दर!
    *
    निर्मलता में सँजो तुम्हारी करुणा का कण-कण किं-बहुना. -- ये सार
    तुमसे कौन शिकायत,शंका या आशंका चिन्ता मुझको .
    मन दर्पण बन रहे तुम्हारा , तब तो भान तुम्हीं रक्खोगे ! -- बहुत ही सुन्दर
    सादर शार्दुला

    उत्तर देंहटाएं