शुक्रवार, 11 जनवरी 2013

मुझे मालूम है ...

शार्दुला जी की एक कविता -जैसे  'तुमुल कोलाहल-कलह में हृदय की बात' कह दी हो किसी ने.
आप सब से बाँटने का लोभ समेट नहीं सकी -
*
मुझे मालूम है नाराज़ हो तुम
*
मुझे मालूम है नाराज़ हो तुम मेरी गलती है,
तुम्हें मैंने बताया कब, मुझे प्यारे नमक से हो .
फटे आँचल के कोने में बंधा दुर्लभ रूप्पैया तुम,
गली में गेंद जिसके हाथ आई उस लपक से हो !
*
बताया ये भी न  मैंने कि हरदम तुमको जीती हूँ,
तुम्हारे गीत लब पे बैठते, चढ़ते, पसरते हैं.
तुम्हारे सुख की गर्मी, दीप मन के बाल जाती है ,
तुम्हारे दुःख की ठंडक से मेरे लम्हे सिहरते हैं!
*
उमर की सीढियां चढ़ते, चुनौती तय नई करते
थका मन पीठ अपनी थपथपाना भूल जाता है ,
नहीं आयाम दूरी का कोई जब  बीच में अपने 
हो तुम कितने अहम्, तुमको बताना भूल जाता है !
*
- शार्दुला

26 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही प्रभावी अभिव्यक्ति..प्रस्तुत करने का आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. माता जी प्रणाम आप ऐसे ही कभी कभार शार्दूला जी और अन्य से भी परिचित करवाते रहें .बहुत ही भावमय रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल को छू लेने वाली पंक्तियां.....आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्कृष्ट.....पढवाने का आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (13-12-2013) को (मोटे अनाज हमेशा अच्छे) चर्चा मंच-1123 पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर भाव भरी कविता ! शार्दुला जी को बधाई आपका आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीया और प्रिय प्रतिभाजी, ये मेरे किसी अनजाने कर्म का पुण्य ही होगा कि आप जैसी सामर्थ्यशाली लेखिका मुझ जैसे विधार्थी को इतना मान देती हैं। या फिर ये मेरे आपके प्रति प्रेम का नतीजा है कि आपको मेरे टूटे-फूटे गीत भी सुहा जाते हैं।
    आपके ब्लॉग पे स्थान देने के लिए कृतग्य हूँ!
    आपकी शार

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय प्रवीण जी, अनामिकाजी, रमाकांत जी, महेन्द्रजी, राजीव जी, मोनिका जी, शास्त्री जी एवं अनीता जी,

    कविता पसंद करने के लिए आप सब का हार्दिक आभार!

    सादर शार्दुला

    उत्तर देंहटाएं
  10. भावमय ... कोमल निश्छल भावों से बंधी रचना ...
    आभार पढवाने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. उमर की सीढियां चढ़ते, चुनौती तय नई करते
    थका मन पीठ अपनी थपथपाना भूल जाता है ,
    नहीं आयाम दूरी का कोई जब बीच में अपने
    हो तुम कितने अहम्, तुमको बताना भूल जाता है !
    गहन अनुभति ,एहसास है,शब्द नहीं.
    New post : दो शहीद
    New post: कुछ पता नहीं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही भाव-पूर्ण व खूबसूरत रचना! इस रचना से परिचय कराने का हार्दिक आभार!
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. भावमय करती सुन्दर रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

  14. इस रचना की अपनी विशेषताएँ हैं.मुझे खास लगीं.इसीलिये सबके सामने रखने का मन हुआ.साथ होते हुये भी जीवन की दौड़ में साथी से हृदय की बात कहना-बाँटना नहीं हो पाता, वही सहज-सरल स्वीकारोक्ति कविता बन कर छलक जाये तो विशेष आडंबर-आयोजन उसके आगे बनावटी लगते हैं.यह तुमसे कह रही हूँ शार!
    *
    और आप,सब जिनने पढ़ा और सराहा,की मैं कृतज्ञ हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस सुन्दर रचना के लिए हमें भी आपका आभार कहना चाहिए .. पाठक को कुछ खास मिला .. सादर

      हटाएं
  15. बहुत सुन्दर है ये रचना...रिश्तों उमर की भावनाओं को गहराईयों से बांधती हुई--

    उत्तर देंहटाएं
  16. यह रचना नया रूपकात्मक भेष भरे है , .बढिया बिम्ब ,सशक्त अभिव्यक्ति अर्थ और विचार की .संक्रांति की मुबारकबाद .आपकी सद्य टिप्पणियों के लिए

    आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुंदर नये बिंबों से कविता की खूबसूरती और बढ़ गई है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .बहुत सुन्दर.बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  19. उमर की सीढियां चढ़ते, चुनौती तय नई करते
    थका मन पीठ अपनी थपथपाना भूल जाता है ,
    नहीं आयाम दूरी का कोई जब बीच में अपने
    हो तुम कितने अहम्, तुमको बताना भूल जाता है !

    काफी सुन्दर रचना ,,,,
    साभार !

    उत्तर देंहटाएं
  20. शकुन्तला बहादुर17 जनवरी 2013 को 9:50 pm

    जीवन की आपाधापी के बीच जीवनसाथी के साथ अंतरंगता के कुछ क्षण भी अक्सर दुर्लभ हो जाते है । मन की बात न कह पाने का क्षोभ मन को उद्विग्न कर देता है
    " जिसके हृदय सद्य समीप है , वही दूर जाता है । और क्रोध होता उस पर ही , जिससे अपना नाता है ।।" बिना किसी लाग लपेट के सीधी सरल भाषा में मन की बात जिस सच्चाई
    से कह दी है , वह पाठक के मन को छू जाती है ।साधुवाद !!

    उत्तर देंहटाएं