मंगलवार, 11 दिसंबर 2012

संकेत.

*
सपना कैसे कहूँ ,
सच लगा मुझे.
पास खड़ी खड़ी,
कितने  ध्यान से
देख रहीं थीं तुम !
त्रस्त-सी मैं ,
एकदम चौक गई  . 
*
श्वेत केश-जाल, 
रुक्ष ,रेखांकित मुखमंडल ,
स्तब्धकारी दृष्टि! 
उस विचित्र भंगिमा से अस्त-व्यस्त ,
पर आतंकित नहीं .
जान गई कौन तुम,
और तुम्हारा संकेत !
*
इन चक्रिल क्रमों में ,
मिली होगी कितनी बार
किसे पता ,
हो कर निकल गई होगी
अनजानी, अनपहचानी
पर ऐसे सामने
कहाँ देखा कभी!
 *
स्वागत करूँगी ,
सहज स्नेहमयी, महा-वृद्धे ,
निश्चित समय
सौम्य भावेन
शुभागमन हो तुम्हारा,
समापन कालोचित
शान्ति पाठ पढ़ते 
*
समारोह का विसर्जन,
कर्पूर-आरती सा लीन मन
जिस रमणीयता में रमा रहा,
वही गमक समाये ,
धूमावर्तों का आवरण हटा
तुम्हारा हाथ थाम
पल में पार उतर जाए !
*

28 टिप्‍पणियां:

  1. सपना कैसे कहूँ ,
    सच लगा मुझे
    एकदम चौक गई थी , त्रस्त-सी .
    कितने ध्यान से
    देख रहीं थीं तुम मुझे !
    पास खड़ी खड़ी.


    बेहतरीन अभिव्यक्ति. कई बार सपना बिलकुल सजीव लगता है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वागत करूँगी ,
    सहज स्नेहमयी, महा-वृद्धे ,
    निश्चित समय
    शुभागमन हो तुम्हारा,

    जो उस पार जाने के लिए स्वागत कर सके आगत का उसे सच ही जीने की कला आ गयी ... बहुत सुंदर और भाव पूर्ण रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनुभूति अनुभूत सच की प्रगाढ़ता है इस रचना में जो बांधती है मन को .

    उत्तर देंहटाएं
  4. शकुन्तला बहादुर11 दिसंबर 2012 को 11:08 pm

    कष्टहारिणी,समस्त प्राणियों में समदृष्टि वाली चिर शान्तिदायिनी देवी का
    हम सुशान्त मन से वरण कर सकें- इससे अधिक वांछनीय और क्या हो सकता है ? अतीव भावपूर्ण अभिव्यक्ति!!

    "भूल जाता आदमी पर असलियत यह ज़िन्दगी की,
    मृत्यु से संघर्ष में जीवन सदा ही हार जाता ।।"

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही समय पे सही आगत के स्वागत के तैयारी ...
    आगमन की प्रतीक्षा ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. abhi se uske swagat ko tatpar hain.....??? bahut himmat chahiye uska hans k swagat karne k liye...aur is saty ko apna liya to baki sab to tuchh rah jata hai.abhivandneey !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सभी रचनाएँ बहुत सुन्दर और गहन भाव लिए हुए. बहुत बधाई और शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सादर आमंत्रण,
    आपका ब्लॉग 'हिंदी चिट्ठा संकलक' पर नहीं है,
    कृपया इसे शामिल कीजिए - http://goo.gl/7mRhq

    उत्तर देंहटाएं
  9. अत्यंत गहन भाव अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्वागत करूँगी ,
    सहज स्नेहमयी, महा-वृद्धे ,
    निश्चित समय
    सौम्य भावेन
    शुभागमन हो तुम्हारा,
    समापन कालोचित
    शान्ति पाठ पढ़ते

    गहन भाव !!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. स्वागत करूँगी ,
    सहज स्नेहमयी, महा-वृद्धे ,
    निश्चित समय
    सौम्य भावेन
    शुभागमन हो तुम्हारा,
    समापन कालोचित
    शान्ति पाठ पढ़ते

    सुन्दर शब्दचयन,प्रभावशाली और भावपूर्ण रचना|

    उत्तर देंहटाएं
  12. सहजभाव स्वागत है ..
    मंगल कामनाएं आपको सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  13. 'संकेत' ने स्नेह और मोह की अदृश्य डोर को सबसे पहले छुआ।चूँकि कविता की पृष्ठभूमि में मैंने अपने समस्त प्रियजनों और स्वयं को भी देखा तो पीड़ा के तंतु तत्काल ही नेत्रों में सजग हो उठे। परिणामस्वरूप मन उदास भी रहा कुछ समय तक।संयत हुई तो ज्ञान ने विचारों को बदलना शुरू किया।
    संकेत पुन: स्थूल से सूक्ष्म और सूक्ष्म से अव्यक्त हो जाने का ..साथ ही एक और संकेत (अप्रत्यक्ष रूप से) जो मैंने पाया ..हर अस्तित्व को केवल एक अविनाशी ऊर्जा के मूल स्वरुप में अपनी चेतना से जोड़ने का भी। ऐसा करके शायद मैं भी ऐसे हर संकेत का हर परिस्थिति में स्वागत कर सकूँगी।और अधिक क्या कहूँ? मुझे तो बहुत गहरे में ले गयी रचना। कांपते मन से अपने शब्द लिख रही हूँ। जो नहीं लिख पा रही, क़ाश!! वो भी कह पाती!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर भाव और उतनी ही सार्थक शब्दावली...आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  15. कर्पूर-आरती सा लीन मन
    जिस रमणीयता में रमा रहा,
    वही गमक समाये ,
    धूमावर्तों का आवरण हटा
    तुम्हारा हाथ थाम
    पल में पार उतर जाए

    यही इच्छा है हे महा वृध्दे ।

    बहुत ही सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. कविता में जब आध्यात्मिकता उतरती है तो उसकी गरिमा अपने सर्वोच्च स्तर पर पहुँच जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. समारोह का विसर्जन,
    कर्पूर-आरती सा लीन मन
    जिस रमणीयता में रमा रहा,
    वही गमक समाये ,
    धूमावर्तों का आवरण हटा
    तुम्हारा हाथ थाम
    पल में पार उतर जाए !
    हृदयस्पर्शी अतिसुन्दर भाव ......
    उत्कृष्ट ...अद्भुत रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (28-12-2012) के चर्चा मंच-११०७ (आओ नूतन वर्ष मनायें) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं