मंगलवार, 22 जुलाई 2014

तुम कहो ...

तुम अपनी अंतर्व्यथा कहो!

*
जब वाष्प कंठ तक भर आये, 

वाणी जब साथ न दे पाये,
छाये विषाद कोहरा बनकर , तब छलक नयन से सजल बहो  !

*
शब्दों में अर्थ न समा सके, 

सारे सुख जिस क्षण वृथा लगें,
मन गुमसुम अपने में डूबे , वह घन-भावन अन्यथा न हो !

*
 श्वासों की तपन विकल कर दे ,

सब जोग-जतन निष्फल कर दे ,
रुकना पड़ जाए अनायास, पर मौन-अधूरी कथा कहो !

*

17 टिप्‍पणियां:

  1. अचक्स्ह्छी रचना है ! भावप्रधान सम्बोधन |

    उत्तर देंहटाएं
  2. वह मौन अधूरी कथा कहो ...
    अनुपम ... हर छंद पे वाह वाह और लाजवाब ही निकलता है ...
    बहुत ही सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. भावपूर्ण और गीतिमय रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 24/07/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या बात है माँ!! आज कुछ भी नहीं रहा कहने को! जितनी सरलता से आपने कहा है कहने को उसके बाद कुछ कहने को रह ही नहीं जाता!! सिम्प्ली मेस्मेराइज़िंग!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक सहज-सरल जिंदगी में डूबती -उतराती कहानी जैसी।
    हम खुशकिस्मत हैं कि आपकी रचनाएं पढ़ रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शकुन्तला बहादुर23 जुलाई 2014 को 6:24 pm

    इस छोटे से भावपूर्ण गीत में अतिशय आत्मीयता की अभिव्यक्ति और प्रतीति मन पर छा गई है । इसी पर कुछ भी कहने में असमर्थ हूँ । अन्तर्मन में इसको अनुंभव ही किया जा सकता है । तुम कहो .......

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह ..... मन को विश्वास दिलाते भाव .....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आह.. सुकून सा आ जाता है आपकी रचनाएं पढकर .

    उत्तर देंहटाएं
  10. अति सुन्दर ...ये कथा कहो..अहो ..अहो..अहो...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर और गहरे भावों से सजी अभिव्यक्ति । सचमुच जब अनुभूतियाँ घनीभूत हो जाएं तब अभिव्यक्ति अनिवार्य है ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सही कहा...इसे बांधना ठीक नहीं .....कवि मन को तृप्त करती हुई रचना.

    उत्तर देंहटाएं