बुधवार, 19 सितंबर 2012

नचारी - जय गणेश.


*

जय हो गनेश ,प्रथम तुमका मनाय लेई ,
कारज के सारे ही विघ्न टल जायेंगे !
नाहीं तो देवन के दफ़्तर में गुजर नहीं,
तुमका मनाय सारे काज सर जायेंगे !
*
सारे पत्र-बंधन के तुम ही भँडारी हो ,
हमरे निवेदन को पत्र तुम करो सही,
हमसों पुजापा लेइ आगे बढ़ाय देओ !
बाबू हैं गनेस, तिन्हें पूज लेओ पहले ई !
*
दस चढ़ाय देओ, ई हजार बनवाय दिंगे
कलम की मार बड़े-बड़े नाचि जायँगे ,
उदर बिसाल सब चढ़ावा समाय लिंगे
इनकी किरपा से सारे संकट कटि जाहिंगे !
*
कहूँ जाओ द्वारे पे बैठे मिलि जावत हैं ,
देखत रहत कौन, काहे इहाँ आयो है !
कायदा कनून तो जीभै पे धर्यो है पूरो!
नाक बड़ी लंबी, सूँघ लेत सब उपायो हैं
*
चाहे लिखवार ,तबै लिखन बैठ जाइत हैं
क्लर्की निभात बड़े बाबू पद पायो  है.
वाह रे गनेस, तोरी महिमा अपार
आज तक किसउ से जौन बुद्धि में न हार्यो है!
*
विधना के दफ़्तर के इहै बड़े बाबू हैं
पूजै प्रथम बिना तो काजै न होयगो,
सारी ही लिखा-पढ़ी इनही के हाथ,
जौन उनते बिगार करे जार-जार रोयगो !
*
हाथन में लडुआ धरो , पत्र-पुस्प अर्पन करो ,
सुख से निचिंत ह्वैके जियो जिय खोल के
पहुँचवारे पूत, रुद्र और चण्डिका के है जे,
इनके गुन गान करो, सदा जय बोल के !
(पूर्व रचित)
***

19 टिप्‍पणियां:

  1. प्रासंगिक, सार्थक और आत्‍मीय.

    उत्तर देंहटाएं
  2. विघ्नहर्ता ,गणनायक का सुन्दर गुणगान ...!!
    भाषा मन मोह रही है ..!!
    मीठी ....बहुत सुन्दर अर्चना ...!!आभार ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. जय हो गणपति बाप्पा की ...
    सुन्दर काव्य रचा है आपने ... गणपति अर्चना ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. चाहे लिखवार ,तबै लिखन बैठ जाइत हैं
    क्लर्की निभात बड़े बाबू पद पायो है.
    वाह रे गनेस, तोरी महिमा अपार
    आज तक किसउ से जौन बुद्धि में न हार्यो है!

    जय जय जय गंपपति जग बंदन सदैव की भांति अद्भुत रचना माता जी प्रणाम स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  5. अहा, पढ़कर सारे मन के सारे विघ्न चले गये हों मानो।

    उत्तर देंहटाएं
  6. विघ्नहर्ता ,गणेश जी का सुन्दर गुणगान ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. गनपति बाबा की जय। मेरे नए पोस्ट समय सरगम पर आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह नए दौर की स्तुति तो बहुत अदभुत रची प्रतिभा जी. पढकर मजा आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस नचारी को गुन कर मन को अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  11. यह वंदना कैसे छूट गयी .... गणपति की हर जगह ज़रूरत है .... आज के हिसाब से सुंदर वंदना ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ...भाषा गज़ब का सम्मोहन छोड़ रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह! प्रतिभा जी.
    कमाल का तीखा व्यंग्य प्रस्तुत
    करती गणेश स्तुति है.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी भाषा और शैली आकर्षित करती है.

    उत्तर देंहटाएं