मंगलवार, 6 मार्च 2012

होली पर - कुछ लोक-रंग


ससुरारै में निंदिया सताये रे ,
जी भर के कबहुँ ना सोय पाय रे
मोरी अक्कल चरै का चलि जात हौ,
ससुरारै में बावरी सी हुइ गई !
*
सैंया बोले गैया को चारा डालना ,
मैं भइया सुन्यो निंदिया की झोंक में ,
छोटे देउर को नाँद में बिठा दियो ,
और आय के बिछावन पे सोय गई !
*
बहू बछिया गुवाले को सौंप दे ,
मैं बिटिया सुन्यो निंदिया की झोंक में ,
सो ननदिया को पहिरा-उढ़ाय के ,
आपने कंठ से लगाय मिल-भेंट ली ,
और जाय के गुवाले को दे दिहिन !
फिर आय के बिछावन पे सोय गई !
*
मेरी दवा की पुड़िया बहू लाय दे,
हवा-गुड़िया सुन्यो नींद के खुमार में !
लाई रबड़ की बबुइया ढूँढ खोज के ,
आगे बढ़ के ससुर जी पे उछाल दी,
और आय के बिछावन पे सोय गई !
*
पहने कपड़े बरैठिन के दै दियो ,
कह दीजो हिसाब पूरो हुइ गयो!
गहने कपड़े सुन्यो मैं आधी नींद में ,
उनके बक्से से जेवर निकाल लै,
और जोड़े धराऊ में लपेट के
धुबिनिया को पुटलिया पकड़ाय दी
और लेट के बिछावन पे सोय गई !
*
हँडिया दूध की अँगीठी पे चढ़ाय दे ,
थोड़ो ईंधन दै के आँच भी बढ़ाय दे ,
चार मुट्ठी भर झोंक दियो कोयला ,
हाँडी गोरस की धरी वापे ढाँक के
और आ के बिछावन पे सोय गई !
*
जाने कैसे मैं लेटी, औंघाय गई ,
दूध उबल-उबल सारा जराय गा ,
मार  हाँडी का रंग करियाय गा !
मैंने टंकी में चुपके डुबाय दी ,
और जाके बिछावन पे सोय गई !
*
मारे नींद के कुछू न समझ आय रे ,
ससुरारै में बावली सी होय रई !
*
- प्रतिभा सक्सेना.
*



29 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया गीत .... होली की शुभकामना और बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कबाड़ा कर दिया नींद के मारे ....... :-))
    रंगोत्सव पर आपको सपरिवार बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    रंगों की बहार!
    छींटे और बौछार!!
    फुहार ही फुहार!!!
    होली का नमस्कार!
    रंगों के पर्व होलिकोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. geet bahut badhiya laga. brij ki holi dekhne ka bahut man hota hai aur har bar rah jate hain...
    Ye geet padh chalchitr se ban gaye.

    aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही बढ़िया .... इन्द्रधनुष से लेकर सात रंग
    घोला है इसमें मैंने आठवां रंग - स्नेह का , दुआओं का , आशीषों का
    हैप्पी होली

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने तो रंग जमा दिया।
    शुभकामनाएँ होली की...!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. :):) अभी तक हंसी नहीं रुक रही .... देवर को नन्द जो बैठा दिया है ...... पूरे गीत में होली का नशा चढ़ा हुआ है ....

    होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  8. मजेदार ...लोकरंग की भीनी महक

    उत्तर देंहटाएं
  9. अपनी नींद के चक्कर में ससुराल वालों की नींद उड़ाना ठीक नहीं!

    उत्तर देंहटाएं
  10. हँडिया दूध की अँगीठी पे चढ़ाय दे ,
    थोड़ो ईंधन दै के आँच भी बढ़ाय दे ,
    चार मुट्ठी भर झोंक दियो कोयला ,
    हाँडी गोरस की धरी वापे ढाँक के
    और आ के बिछावन पे सोय गई !
    मन बस गांव में पहुंच गया है। इतना सुंदर वर्णन है कि सारा दृश्य (गांव-घर का) आंखों के सामने साकार हो गया।
    हैप्पी होली!

    उत्तर देंहटाएं
  11. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    ♥ होली ऐसी खेलिए, प्रेम पाए विस्तार ! ♥
    ♥ मरुथल मन में बह उठे… मृदु शीतल जल-धार !! ♥



    आपको सपरिवार
    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर गीत ....
    होली की शुभकामनायें ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही बढ़िया
    आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  14. हँडिया दूध की अँगीठी पे चढ़ाय दे ,
    थोड़ो ईंधन दै के आँच भी बढ़ाय दे ,
    चार मुट्ठी भर झोंक दियो कोयला ,
    हाँडी गोरस की धरी वापे ढाँक के
    और आ के बिछावन पे सोय गई !
    :-)

    बहुत बढ़िया.......

    होली हुडदंगी हो.....

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही बढ़िया
    होली की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. are waah
    maja aa gaya..
    alag style ki rachana..
    bahut sundar or jabardast hai...
    holi ki dher sari shubh kamnaye

    उत्तर देंहटाएं
  17. दुर्लभ गीत पढ़ने का अवसर प्रदान करने के लिए आभार।
    होली की बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. रंगों भरी होली की हार्दिक शुभकामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  19. दूधों फले, पूतों नहाए बहुरिया.

    उत्तर देंहटाएं
  20. इतना प्यारा लोकगीत पढवाया आपने मज़ा आ गया । आशा है आपकी होली भी रंगीन रही होगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. इस सुन्दर गीत में जीवन के न जाने कितने रंग छुपे हैं !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  22. फागुन में बोल अमोल पढि, मन मगन भयो आपणो।
    ...शुभ होली।

    उत्तर देंहटाएं
  23. राम रे राम !

    आपने तो गजब ही ढहा दिया है जी.

    होली की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं