बुधवार, 8 फ़रवरी 2012

नारीत्व - एक गाली .


नारी-जन्म एक गुनाह  ,
आजीवन-दंड का प्रावधान !
कितना कुछ है दुनिया में
 सुख-सुविधा के लिये आदमी के ,
जिसमें यह  भी एक वस्तु ,
 शुरू से छँटती-ढलती
उसी के निमित्त ,
स्वयं पर लादे निषेधों का विधान !
*
नारीत्व -
एक गाली,
 आदमी के मुँह चढ़ी ,
 अपनी सामर्थ्य
प्रमाणित करने को !
मन की नालियों का बहाव ,
 उमड़-उमड़ फूट  निकलता है ,
अपनी कुत्सा औरों पर छींटते !
*
औरत, एक खिलौना
मन बहलाने को ,
कमज़ोर  माटी का भाँडा -
सारी छूत समेटे .
बस में न रहे , तोड़ फेंको .
अधिकारी हो न ,
शक्ति-सामर्थ्य संपन्न तुम !
*

18 टिप्‍पणियां:

  1. sach kaha aapne nari ki to yahi gati hai...
    maine bhi pichhli apni ek post me aisa hi kuchh likha...

    सब सहे ये नारी, फिर भी कहें
    नारी नरक का द्वार है
    माध्यम बनी क्या आज नारी
    सामर्थ्य दिखाने के लिए ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. निर्वाह सहजीवन में ही है, यह दोनों को ही समझना होता है..

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक नारी के लिए ज़माना कभी नहीं बदलता वो जैसा आज है वैसा ही हमेशा रहेगा। यही नारी जीवन का एक कड़वा सच है और यही रहेगा

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पल्लवी जी ,
      यह कड़वा सच बदल सकता है अगर नारी अपनी क्षमता को जान ले और उसका उचित उपयोग करे .भिन्न समाजों में इसे आप अनेक रूपों में देख सकती हैं .हमारे यहाँ भी तो एक दर्गा और एक जिसे हमेशा लाचार, रोता दिखाया जाता है

      हटाएं
  4. अनेक बड़ियों को निडर होकर तोडना होगा। एक मुक्त नारी अन्यों की भी मुक्ति का साधन बनती है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. नारी-जन्म एक गुनाह ,
    आजीवन-दंड का प्रावधान !
    कितना कुछ है दुनिया में
    सुख-सुविधा के लिये आदमी के ,
    जिसमें यह भी एक वस्तु ,
    शुरू से छँटती-ढलती
    उसी के निमित्त ,
    स्वयं पर लादे निषेधों का विधान !
    सब कुछ कह डाला इन पंक्तियों ने !

    उत्तर देंहटाएं
  6. उच्च चेतना के स्तर पर यह कुंठा नहीं रहती एक प्रश्न के उत्तर में माँ का बेटी को प्रबोध ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. ओह , प्रतिभाजी हर शब्द गहरे उतर गया ...... साथ साथ चलने का दिन कब आएगा ..?

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी मान्यता पर गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ह्रदयस्पर्शी रचना..
    कटु सत्य को उजागर करती..

    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  10. शकुन्तला बहादुर12 फ़रवरी 2012 को 10:47 pm

    कटु मार्मिक सत्य है,जो मन को वितृष्णा से भर देता है। किन्तु मुझे लगता है कि अब कहीं कहीं स्थिति में कुछ सुधार का आभास सा हो रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत मार्मिक शब्द-चित्र हैं प्रतिभा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन की नालियों का बहाव ,
    उमड़-उमड़ फूट निकलता है ,
    अपनी कुत्सा औरों पर छींटते !

    समाज की कटु सच्चाई को कहती विचारणीय रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. nar krit shastro ke bandhan sab hai nari ko hi lekar,
    apne liye sabhi suvidhayen pahle hi kar baithe nar.

    उत्तर देंहटाएं
  14. I hаvе nοt fоund mаny blοgs that deliveг such conѕistently
    reaԁable and informatіve contеnt aѕ is on offer
    οn yοuгs, you аre due thе short tіmе it takeѕ to
    sharе my admiгation at yоur endеаνours.

    Bless you.
    Look at my page - heel lifts insoles

    उत्तर देंहटाएं