शुक्रवार, 27 जनवरी 2012

मनोकामना पूरो भारति !


सुकृति -सुमंगल  मनोकामना ,पूरो भारति!  
नवोन्मेषमयि ऊर्जा ,ऊर्ध्वगामिनी मति-गति  !
*
तमसाकार दैत्य दिशि-दिव में  , भ्रष्ट  दिशायें ,
अनुत्तरित हर प्रश्न , मौन   जगतिक  पृच्छायें ,
राग छेड़ वीणा- तारों में स्फुलिंग  भर-भऱ ,
विकल धूममय दृष्टि - मंदता करो निवारित !
मनोकामना पूरो भारति !
*
निर्मल मानस हो कि मोह के पाश खुल चलें ,
शक्ति रहे मंगलमय,मनःविकार धुल चलें .
अ्मृत सरिस स्वर  अंतर भर-भर  
विषम- रुग्णता  करो विदारित !
मनोकामना पूरो भारति !
*
हो अवतरण तुम्हारा  जड़ता-पाप क्षरित हो ,
 पुण्य चरण  परसे कि वायु -जल-नभ प्रमुदित हो.
स्वरे-अक्षरे ,लोक - वंदिते ,
जन-जन पाये अमल-अचल मति !
मनोकामना पूरो भारति !
*

16 टिप्‍पणियां:

  1. मैं तो फिर से सबसे पहले आ गयी..:D
    और बहुत बहुत प्रसन्न हुई कविता पढ़कर...सब कुछ एक ही कविता में समेट लिया आपने..ऐसी मनोकामनाएँ अवश्य पूरी होंगी...पूरी होनी ही चाहिए..
    नमन माँ भारती को...:)
    आभार कविता ke liye....ऐसा कुछ पढ़ना ही चाह रहा था मन...santushti हुई हृदय को.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. निश्चय पूरी हो नव मंगल स्तुति अबकी,
    आवश्यकता से अधिक भरे मन-गगरी सबकी,

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर आकांक्षा...बसन्त पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बंसतोत्‍सव की अनंत शुभकामनाऍं

    उत्तर देंहटाएं
  5. तमसाकार दैत्य दिशि-दिव में , भ्रष्ट दिशायें ,
    अनुत्तरित हर प्रश्न , मौन जगतिक पृच्छायें ,
    राग छेड़ वीणा- तारों में स्फुलिंग भर-भऱ ,
    विकल धूममय दृष्टि - मंदता करो निवारित !
    मनोकामना पूरो भारति ....kitni sundar rachna....sundr shbdon se saji ,maa avashya prsnn huee hogi .... bdhai...

    उत्तर देंहटाएं
  6. गौ रक्षा करने की जाग्रति हेतु एक ब्लॉग का निर्माण किया है ,आप सादर आमंत्रित है सदस्य बनने और अपने विचार /सुझाव/ लेख /कविता रखने के लिए ,अवश्य पधारियेगा.......

    http://gauvanshrakshamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. रचना जीवन की अभिव्यक्ति है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. नमन कर इन शब्दों को, वंदना में मैंने भी शीश नवाया।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीया प्रतिभा जी

    आपकी लेखनी को नमन !

    बहुत दिनों के बाद आपकी कविता पढ़ पाया.

    मन आनंदित हो उठा !

    सादर
    प्रताप

    उत्तर देंहटाएं
  10. निर्मल मानस हो कि मोह के पाश खुल चलें ,
    शक्ति रहे मंगलमय,मनःविकार धुल चलें .
    अ्मृत सरिस स्वर अंतर भर-भर
    विषम- रुग्णता करो विदारित !
    मनोकामना पूरो भारति !...ab isse behtar kya

    उत्तर देंहटाएं
  11. हो अवतरण तुम्हारा जड़ता-पाप क्षरित हो ,
    पुण्य चरण परसे कि वायु -जल-नभ प्रमुदित हो.
    स्वरे-अक्षरे ,लोक - वंदिते ,
    जन-जन पाये अमल-अचल मति !
    मनोकामना पूरो भारति !

    Bahut hi sundar rachana bilkul sangrhneey.... sadar abhar Pratibha ji.

    उत्तर देंहटाएं