मंगलवार, 31 जनवरी 2017

मनोकामना पूरो भारति !

*
सुकृति -सुमंगल  मनोकामना ,पूरो भारति!  
नवोन्मेषमयि ऊर्जा ,ऊर्ध्वगामिनी मति-गति  !
*
तमसाकार दैत्य दिशि-दिव में  , भ्रष्ट  दिशायें ,
अनुत्तरित हर प्रश्न , मौन   जगतिक  पृच्छायें ,
राग छेड़ वीणा- तारों में स्फुलिंग  भर-भऱ ,
विकल धूममय दृष्टि - मंदता करो निवारित !
मनोकामना पूरो भारति !
*
निर्मल मानस हो कि मोह के पाश खुल चलें ,
शक्ति रहे मंगलमय,मनःविकार धुल चलें .
अ्मृत सरिस स्वर  अंतर भर-भर  
विषम- रुग्णता  करो विदारित !
मनोकामना पूरो भारति !
*
हो अवतरण तुम्हारा  जड़ता-पाप क्षरित हो ,
 पुण्य चरण  परसे कि वायु -जल-नभ प्रमुदित हो.
स्वरे-अक्षरे ,लोक - वंदिते ,
जन-जन पाये अमल-अचल मति !
मनोकामना पूरो भारति !
(पूर्व रचित)
*
- प्रतिभा.

7 टिप्‍पणियां:

  1. दिनांक 02/02/2017 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंद... https://www.halchalwith5links.blogspot.com पर...
    आप भी इस प्रस्तुति में....
    सादर आमंत्रित हैं...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कुलदीप जी,मैंने बहुत बार प्रयत्न किया इलिंक पर नहीं पहुँच पाई .uj yej /u nfKe E pele uw-Your connection is not private

      Attackers might be trying to steal your information from www.halchalwith5links.blogspot.com (for example, passwords, messages, or credit cards). NET::ERR_CERT_COMMON_NAME_INVALID

      हटाएं
  2. बहुत ही अच्छा article है। ......... very useful ......... Thanks for sharing this article!! :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर मंगलमयी प्रार्थना..

    उत्तर देंहटाएं
  4. मित्र मेरी मदद करें 9752066002 पर ।हमें आपकी कविता अति सुन्दर लगी ।

    उत्तर देंहटाएं