रविवार, 19 जून 2016

पितृत्व -

*
नहीं,
मैं नहीं एकान्त निर्मात्री,
इस सद्य-प्रस्फुट जीवन की,
रचना मेरी, आधान तुम्हारा
सँजो कर गढ़ दिया मैंने नया रूप .
प्रेय था!


पौरुष का माधुर्य छलक उठा जब
नयनों में वात्सल्य बन,
जैसे चाँदनी में नहाई बिरछ की डाल,
स्निग्ध कान्ति से दीप्त तुम्हारा मुख!
मुग्ध हो गई मैं .


कृतज्ञ दृष्टि कह गई-
'जहाँ मैं अगुन-अरूप-अव्यक्त रहा,
तुमने ग्रहण किया.
प्रतिष्ठित कर दिया मुझे!
अपने से पार
पुनर्जीवन पा गया मैं,
तुम्हारे रचे प्रतिरूप में! '


सृष्टि का श्रेय आँचल में समाये
मुदित परितृप्ति का प्रसाद,
मिल गया मुझे,
और देहानुभूतियों से परे,
मन की विदेह-व्याप्ति!

*
- प्रतिभा.

13 टिप्‍पणियां:

  1. शायद पिता का किरदार ही ऐसा होता है ... उन्नत पौरुष बच्चों के लिए तो स्निग्ध वात्सल्य से झुक जाता है ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब!

    सच है कि मेरे 'मुझमे' माँ के बाद पिता जी का ही सबसे बड़ा योगदान है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (21-06-2016) को "योग भगाए रोग" (चर्चा अंक-2380)) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 21/06/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. पाँच लिंकों में मेरी रचना चुनने हेतु, आभार कुलदीप जी !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आह ....ह्रदय स्पर्शी एवं भावपूर्ण

    उत्तर देंहटाएं
  7. मर्म को स्पर्श करती भावमयी कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. शकुन्तला बहादुर23 जुलाई 2016 को 10:44 pm

    सन्तान के सृजन में पति-पत्नी / माता-पिता द्वारा परस्पर कृतज्ञता की सौहार्दपूर्ण अनुभूति और उसकी अभिव्यक्ति में वस्तुत: उनकी उदात्त भावना एवं निश्छल प्रेम प्रदर्शित हो रहा है । यहाँ दोनों ही अहं से दूर हैं । प्रतिभा जी ने इस प्रसंग में दोनों के समान सहयोग का चित्रण बड़ी ही सरसता और प्रभावी शैली में किया है , जो सुखद एवं विलक्षण है ।

    उत्तर देंहटाएं