मंगलवार, 13 अक्तूबर 2015

कुछ लोकरंग देवी को अर्पण -

*
मइया पधारी मोरे अँगना,
मलिनिया फुलवा लै आवा,
*
ऊँचे पहारन से उतरी हैं मैया,
छायो उजास जइस चढ़त जुन्हैया.
रचि-रचि के आँवा पकाये ,
 कुम्हरिया ,दीपक के आवा.
*
सुन के पुकार मइया जाँचन को आई  ,
खड़ी दुआरे ,खोल कुंडी रे माई !
वो तो आय हिरदै में झाँके ,
घरनिया प्रीत लै के आवा ,
*
दीपक  कुम्हरिया ,फुलवा  मलिनिया   ,
चुनरी जुलाहिन की,भोजन किसनिया.
मैं तो  पर घर आई - 
दुल्हनियाँ के मन पछतावा.
*
 उज्जर हिया में समाय रही जोती .
रेती की  करकन से  ,निपजे रे   मोती.
काहे का सोच बावरिया,
मगन मन-सीप लै के आवा !
हिया जगमग हुआ जावा !
*



11 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर ! नवरात्रि सभी को शुभ हो शुभकामनाऐं ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. माँ को नमन..हृदय में ज्योति बन समाती सुंदर रचना..शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 15 - 10 - 2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2130 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर देवी गीत!
    नवरात्र की हार्दिक मंगलकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर स्तुति .... बहुत बहुत शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
    ebook publisher

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर। दुर्गा पूजा और दशहरे की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. देवी-वंदन के इस लोकरंग की शुचिता हृदय को स्पंदित करती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुंदर प्रस्‍तुति। मेरे ब्‍लाग पर आपका स्‍वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. शब्द शब्द जैसे ज्योति बन के चहक रहा है ... सीधे मन में प्रकाश के आगमन जैसे भाव ... अति सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं