शुक्रवार, 9 मई 2014

कृतारथ कर दिया ओ माँ !

( उस परम- जननी ने  नारी जन्म  दे कर  जो 'माँ' बनने का गौरव  प्रदान किया -    कृतज्ञता -ज्ञापन हेतु 'विश्व-मातृ-दिवस' पर अपनी एक पूर्व  कविता  प्रस्तुत करने  से स्वयं को रोक नहीं पा रही हूँ. ) 
*
सृजन की माल का मनका बना कर जो ,
कि नारी तन मुझे देकर कृतारथ कर दिया ओ माँ !
*
सिरजती एक नूतन अस्ति अपने ही स्वयं में रच
इयत्ता स्वयं की संपूर्ण वितरित कर परं के हित
नए आयाम सीमित चेतना को दे दिए तुमने
विनश्वर देह को तुमने सकारथ कर दिया, ओ माँ !
*
बहुत लघु आत्म का घेरा कहीं विस्तृत बना तुमने
मरण को पार करता अनवरत क्रम, जो रचा तुमने
कि जो कण-कण बिखरता, विलय होता, नाश में मिलता,
नये चैतन्य का वाहन, पदारथ* कर दिया ओ माँ !
*
कि नारी तन मुझे देकर, कृतारथ कर दिया ओ माँ !
*
अमृतमय स्रोत जीवन का प्रवाहित कर दिया तन में,
लघुत्तम जीवधारी को जनम-अधिकार दे तुमने.
रहस्यों की गुहा में धर तुम्हीं साकार कर पाईं,
प्रकृति के बीज मंत्रों को यथारथ कर दिया ओ माँ !
 *

- प्रतिभा.
(*पदारथ = मणि)

13 टिप्‍पणियां:

  1. माँ, आपकी कविता पर कुछ कहने की क्षमता नहीं मेरी...
    कि नारी तन मुझे देकर कृतारथ कर दिया ओ माँ!!
    और मैं यह मानकर कृतारथ अनुभव कर रहा हूँ कि मुझे जन्म देने वाली एक नारी है!!

    अद्भुत सन्योग है कि आज आपकी एक पुरानी कविता ब्लॉग बुलेटिन के लिये चुनी और आज यह प्रस्तुत है! प्रणाम!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. संसार चक्र है जिससे आलोकित और गतिमान , वह मणि माँ ने ही निर्मित की .
    सुन्दर भाव . माँ को नमन !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज भावनाओं को शब्द देने की कोशिश भी नहीं कर रही हूँ।कृतार्थता प्रकटित हो रही है। ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रतिभा जी बहुत प्यारी रचना .माँ का प्रेम तो अनमोल है .हर माँ को नमन ...बधाई

    भ्रमर ५

    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. रचना को महसूस ही किया जा सकता है ... बेटी से ज्यादा माँ को मन को कौन समझ सकता है ... हर पंक्ति पावन श्रधा है माँ के चरणों में ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. तारीफ़ के लिये शब्द नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैं कुछ कहने योग्य नहीं, माँ को कहने योग्य कोई कहाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  10. माँ के प्रति सच्ची कृतज्ञता कि हमें नारी के रूप में जन्म दिया । अद्भुत भाव ।

    उत्तर देंहटाएं