मंगलवार, 19 जून 2012

अमरनाथ के हिम कपोत.

*
जब नीलकंठ बोलें  ,मुंडमाल हिले-डोले, गिरिबाला  देख   चौंक चौंक जाये,
लगे एक-एक मुंड,किसी कथा का प्रसंग लिये  भेद कुछ समाये है, छिपाये .
बार-बार कोई बात, भूले सपन की सी याद मन- दुआरे की कुंडी बजाये  ,
कभी लागे मुस्काय, नैनन जतलाय़े, पहचानr लगे, याद नहीं आये .
*
 पूछ बैठी माँ भवानी ,गिरि-शृंगोंकी रानी , मुंड काहे को पिरोय कंठ धारे ,
भूत प्रेत की जमात चले  पसुपति साथ ,यह कौन सा  सिंगार तुम सँवारे !
क्या बताऊं गिरि-कन्या ,मैं हूँ अमर अजन्मा किन्तु तेरी तो मरणशील काया ,
जन्म-जन्म रही मेरी ,अर्धअंग मे विराजी ,तेरा अमर प्रेम मैंने ही पाया .
*
हर बार नया जन्म, हर बार नया रूप ,नई देह धार ,मेरी प्रिया आये ,
तेरे सारे ही शीष ,मैंने जतन से सँजोय राखे,  क्रम-क्रम  माल में सजाये .
माल  हिये से लगाय मैं  राखत हूँ गौरा, तोरी जनम-जनम प्रीत की निसानी,
ये  तेरी ही धरोहर लगाये हूँ हिये से ,बिन तेरे  जोग साधूँ,  शिवानी .
*
 मेरी म़त्युमयी काया  , किन्तु प्रीत अविनाशी ,मुक्त करो जन्म-मृत्यु चक्र मेरा ,
करो देव, वह उपाय जासों तुम्हें छोड़ बार-बार जनम मरण न दे फेरा .
अमर-कथा चलो प्रिया ,तुम्हें आज मैं सुना दूँ चिर रहे जो  मन-भावनी ये काया ,
चलो कहीं एकान्त, जहाँ जीव  अनधिकारी बोल कानों से ना सुन पाया . 
*
जहाँ हिमगिरि की शीत, बियाबान -सूनसान ,कोई पंखी भी पंख नहीं मारे ,
अति रम्य गुहा हिमगिरि  की पावन सुशीतल ,तहाँ गौरा संग शंकर सिधारे .
सावधान सब देखा कोई  जीवधारी न हो , कहीं सुन ले जो दुर्लभ कहानी .
और  अजर-अमर मनभावन अमल देह पा ले  न कोई भी  प्राणी .
*
 मैं मगन सुनाऊँ , बस एक  इहै  चिन्ता तुम सबद -सबद ध्यान लगा, पाओ
  हुइ के  सचेत मन धारि सुने जा रहीं,  जताने को हुंकारा  दिये जाओ .
 पान करने लगीं गौरा वह  अमृतमयी वाणी ,शीश काँधे से पिय के टिकाये,
धरा- गगन को पावन बनाय बही जा रही  स्वर- धारा संभु गंग-सी बहाये .
*
मंद थपकी लगाय निज नेह को जतावैं संभु , मगन भवानी नैन मूँदे ,
पाय अइस बिसराम तन अलस ,विलस मन , भीगि रहीं पाय रस बूँदें .
अमर कथा को प्रभाऊ,दुई कपोत अंड रहे तहाँ तामें जीव विकसि गये पूरे ,
 दुइ नान्ह-नान्ह बारे ,कान पड़े भेद सारे अइस जिये जइस अमरित सँचारे,
*
अंड फोरि निकरि आये,  खुले नैन, चैन पाये ,  हुँहुँक हुँहूँक धुन गुहा में समाई 
जइस कोई हुँकारा भरे रुचि सों कथा को सुनि सोई धुनि कानन में आई .
आपै आप हुँकारा सुनि   गिरिजा हरषानी, बिन श्रम सुनै लाग उहै बानी .
 विसमय में ऊब-डूब कोऊ चमत्कार जानि मौन धारि बैठीं सुने  शिवानी .
*
अनायास लगीं पलकें ,अइस  छाय गई  निंदिया ,सुनिबे  को भान डूबि गया सारा ,
हूँ-हुँहुँक् का हुँकारा ,गूंज रहा हर बारा ,बहे पावनी कहानी   की धारा .
पूरन कथा तहूँ   ,हुँकार धुनि छाई  गौरा   सोय रहीं  संभु चकियाने,
 सावक निहारि भेद जानि गये पसुपति ,पै सोचि परिनाम अकुलाने .
*
 अनगिन बहाने होनहार हेतु होवत हैं, जौन रचि राखत विधाता ,
 पारावत दोउ अमरौती पाय जागे , कौन पुण्य को प्रभाव अज्ञाता .
 नित्य वे निवासी  सिवधाम के कपोत दुइ ,अमल-धवल वेष धारे ,
तीरथ के यात्री हरषि तिन्हें हेरत, प्रदक्षिणा-सी देत  नित सकारे  .
*
गिरिजा की प्रीत बार-बार नवरूप लेइ हिये धरि संभु अविनासी .
हिमधवल कपोत अमर हुइगे  प्रसाद पाइ अमरनाथ धाम के निवासी .
ते ही  कपोत दोऊ ,आज लौं लगावत हैं अमरनाथ  की नित परिक्रमा ,
सरल सुभाव महादेव सह गौरी  को मनसा ध्यान लाये न किं जनः!
*
- प्रतिभा.

20 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है.... बहुत ही सुन्दर बर्णन..अनुपम अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके लिखे को पढकर जैसे एक क्लास पूरी हो जाती है.:) बहुत कुछ सीखा जाता है.
    बस नमन है आपको.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अद्भुत!
    अंड फोरि निकरि आये, नैन खुले चैन पाये , हुँहुँक हुँहूँक धुन गुहा में समाई
    जइस कोई हुँकारा भरे रुचि सों कथा को सुनि सो ई धुनि कानन में आई .
    साकार हो उठे दृश्य!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अहा, हर पंक्ति मन लगा कर पढ़ी, अद्भुत लिखा है आपने..

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाजवाब!!
    गाने में भि रुचिकर!
    भाव भी सुंदर!!
    तुलसी और बिहारी का सा आनंद आया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. शकुन्तला बहादुर20 जून 2012 को 11:55 pm

    क्या कहूँ?अद्भुत रचना!!हिम कपोत के समान ही प्रतिभा जी की कल्पना के भव्य कपोत उत्तुंग शिखरों पर उड़ते हुए आकाश को छू लेते हैं-जहाँ मेरी बुद्धि नहीं पहुँचती।विलक्षण अभिव्यक्ति में लोकभाषा ने अतिशय माधुर्य भर कर,काव्य में सरसता की सहज निष्पत्ति की है। मैं भावविभोर भी हूँ और विस्मित भी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. हिम कपोत पढ़ते पढ़ते न जाने क्यों अभिमन्यु के जन्म की कथा याद आ गयी जब अर्जुन सुभद्रा को चक्रव्यूह भेदने की कथा सुना रहे थे :):)

    कितनी सुंदर कल्पना .... मन कैलाश पर्वत तक घूम आया

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर काव्य साधना
    बहुत स्तुत्य रचनाधर्मिता

    उत्तर देंहटाएं
  9. इतना सजीव काव्य ..भूल ही गयी कि कहाँ हूँ....मुश्किल से टिप्पणी कर पा रही हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. रचना का छंद प्रवाह देखते ही बनता है. दृश्य पर दृश्य साकार होते गये हैं. अद्भुत रचना हेतु बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अद्भुत छंदों बाबा का दर्शन करा दिया आपने! वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  12. अद्भुत है .....शब्द नहीं हैं मेरे पास..... लाजवाव

    उत्तर देंहटाएं
  13. अंड फोरि निकरि आयेए खुले नैनए चैन पाये ए हुँहुँक हुँहूँक धुन गुहा में समाई
    जइस कोई हुँकारा भरे रुचि सों कथा को सुनि सोई धुनि कानन में आई
    आपै आप हुँकारा सुनि गिरिजा हरषानीए बिन श्रम सुनै लाग उहै बानी
    विसमय में ऊब.डूब कोऊ चमत्कार जानि मौन धारि बैठीं सुने शिवानी

    सरस कथा-काव्य।
    गा-गा कर पढ़ लिया मैंने।

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह ...
    आप लाजबाव हैं !
    प्रणाम !

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर प्रस्तुति,..बेहतरीन रचना,....

    उत्तर देंहटाएं
  16. maine ye vyanjana poorn katha roop me suni hui hai aage bhi bahut kuchh hota hai lekin ab me bhool gayi hun.....agar mumkin ho sake to aage ka vritant prastut kijiyega. aabhari rahungi.

    उत्तर देंहटाएं