सोमवार, 4 अप्रैल 2011

नव-संवत्सर पर


पथ के साथी !
**
नव-संवत्सर पर हम सबकी शुभ-कामनाएँ विश्व-मंगल का हेतु बने !


भारतीय-मनीषा ने जीवन को कभी देश,धर्म आदि की संकुचित सीमाओं में नहीं बाँधा ,वसुधा को एक कुटुंब सम देखा है - सबके साथ आप और हम भी आनन्द और उत्कर्ष को प्राप्त करें !

माँ ,नव-ऊर्जा के इस उदय-काल में तुम्हारी शक्तियों के सभी स्वरूप मंगल का विधान और अमंगल का शमन करें !
**
- प्रतिभा सक्सेना.

8 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीया प्रतिभा सक्सेना जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !
    प्रणाम !
    बहुत शांतिप्रदायक चर्चा … आभार !
    सबके साथ आप और हम भी आनन्द और उत्कर्ष को प्राप्त करें ! तथास्तु!

    नवरात्रि की हार्दिक शुभ कामनाएं !

    साथ ही

    नव संवत् का रवि नवल, दे स्नेहिल संस्पर्श !
    पल प्रतिपल हो हर्षमय, पथ पथ पर उत्कर्ष !!

    चैत्र शुक्ल शुभ प्रतिपदा, लाए शुभ संदेश !
    संवत् मंगलमय ! रहे नित नव सुख उन्मेष !!

    *नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !*


    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  2. नव-संवत्सर पर हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको भी नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रतिभा जी ,
    धन्यवाद एवं आपको भी शुभकामनाएं ।
    अभिवादन स्वीकार करें ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. सामान्य हित में शुभ सोचना भी सबके वश का नहीं है। आशीर्वचन की तरह ग्रहण किया मैंने।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको भी ढेर सारी शुभकामनाएं प्रतिभा जी..:):)

    उत्तर देंहटाएं