सोमवार, 31 दिसंबर 2018

ब्लागर बंधु-बांधवियों को -

*
ब्लागर बंधु-बांधवियों को ,
सादर-सप्रेम -

ले अपना हिस्सा, निकल चुका है विगत वर्ष ,
यह आगत लाये शान्ति और सौहार्द, मित्र!
इस विश्व पटल पर  मंगल-मंत्र उचार भरें
मानवता रच दे , जय-यात्रा के  भव्य-चित्र!
हम-तुम, प्रसाद पायें  सुरम्य संसार रहे ,
हिल्लोलित होता रहे  हृदय ले नवल हर्ष !
*
- प्रतिभा सक्सेना.

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपके लिये भी सपरिवार नववर्ष की मंगलकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (02-01-2019) को "नया साल आया है" (चर्चा अंक-3204) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. Very Nice.....
    बहुत प्रशंसनीय प्रस्तुति.....
    मेरे ब्लाॅग की नई प्रस्तुति पर आपके विचारों का स्वागत...

    उत्तर देंहटाएं
  4. नये साल कि ढेर सारी शुभकामनाऐ

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके गीत की आशा और उम्मीद बनी रहे ..
    इश्वर इन शब्दों में शक्ति का वास करे ... नव वर्ष की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. नये वर्ष के लिए मंगल कामनाएं ! आने वाला वर्ष विश्व के लिए शांति और सौहार्द का वातावरण सृजित करे..

    उत्तर देंहटाएं
  7. आवश्यक सूचना :
    अक्षय गौरव त्रैमासिक ई-पत्रिका के प्रथम आगामी अंक ( जनवरी-मार्च 2019 ) हेतु हम सभी रचनाकारों से हिंदी साहित्य की सभी विधाओं में रचनाएँ आमंत्रित करते हैं। 15 फरवरी 2019 तक रचनाएँ हमें प्रेषित की जा सकती हैं। रचनाएँ नीचे दिए गये ई-मेल पर प्रेषित करें- editor.akshayagaurav@gmail.com
    अधिक जानकारी हेतु नीचे दिए गए लिंक पर जाएं !
    https://www.akshayagaurav.com/p/e-patrika-january-march-2019.html

    उत्तर देंहटाएं