गुरुवार, 3 मई 2018

बोला था चलता हुआ वर्ष -


 बोला था नये साल से चलता हुआ वर्ष -
जाते-जाते यह उचित लगा ओ मीत, तुम्हें कर दूँ सतर्क.

 मैं भी था अतिथि ,एक दिन तुम सा ही आदृत,
ऐसे ही चाव कोलाहल-सँग पाया था मैंने भी स्वागत
सत्कार-सँवार-उछाह देख मैं भी था मगन, परम पुलकित 
अपने आने  की धूम-धाम से कौन नहीं होता प्रमुदित,

इतनी उमंग उल्लास लिये  वे चले मिलाते  कदम ताल 
अपने अनुकूल  लगा रुख जब  मैंने कुछ सपने लिये पाल .
 सोचा इतने सारे दिन हैं, संधान नये कर पायेंगे ,
 जीवन के मूल्य मान सीढ़ी दर सीढ़ी चढ़ते जायेंगे. 

जड़ से सत्-चित् तक का विधान  जिसके हित सारी घूमघाम , 
 इस कर्म-योनि में हो समर्थ ,  मानव पायेगा ऊर्ध्वमान .
  पर फलें  कि जो सिंचित हो कर वे मन के शुभ-संकल्प कहाँ?
नव आगत को  अर्पित कर दें ऐसे सत्कर्म विकल्प कहाँ? 

बस स्वार्थ-साधना के हित विश्व-द्रोह पर ही तुल गये आज
इस महा सृष्टि- गाथा में उद्धत खलनायक का वेश साज.
मानव मानवता खो ,अपनी ही मृगतृष्णाओं में भूला,
सदियों की लब्धि लुटा कर अपनी क्षणिक ऐषणा में झूला,

बारहों मास यों बीत गये ढूँढे न जुड़े उजले आखर,
अब महाकाल की महाबही में क्या लिक्खूँगा मैं जाकर !
जाता हूँ ,जाना  होगा ही,अब रुकने का अवकाश कहाँ 
मुझसे ऊबे लोगों  में बाकी बचा ,धैर्य- सहभाव कहाँ .

 अब कथासूत्रता आगे की ओ मित्र, तुम्हारे हाथ रही,
 ऊर्ध्वारोहण की शुभ-यात्रा ही कुहर-जाल में भटक गई.
कह दिया बहुत कुछ थोड़े में,अब कर लेना पूरा विमर्ष ,
यों बोला , कुछ उदास हो चलता हुआ वर्ष !
*







12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (05-05-2017) को "इंतजार रहेगा" (चर्चा अंक-2961) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर और सही आकलन...फिर भी हर बार नया वर्ष कुछ नई आशा भर जाता है और उदासी के बादल कुछ देर के लिए छंट जाते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. नए वर्ष को जानेवाले वर्ष का सुंदर संदेश।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' ०७ मई २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ भी कहो नये साल पर नई उमंगे भर ही जाती है दिलोदिमाग में.
    सुंदर लेख
    खैर 


    उत्तर देंहटाएं
  6. निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' २१ मई २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने साप्ताहिक सोमवारीय अंक के लेखक परिचय श्रृंखला में आपका परिचय आदरणीय गोपेश मोहन जैसवाल जी से करवाने जा रहा है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/



    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  7. जाता हुआ वर्ष तो बहुत कुछ मौन ही कह जाता है पर नया उमंग भरा वर्ष आधी बातें उमंग आवेश में सुनता ही कहाँ है ... फिर भी जब जागता है नव वर्ष बहुत कुछ करने को आतुर हो जाता है और करता भी है ...
    गहरी अभुव्यक्ति ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. bahut innovation hai aapki writing mein...please keep it up!

    Do visit my blog https://successayurveda.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं