गुरुवार, 14 अगस्त 2014

सर्वग्रासी -

*
यह सर्वग्रासी राग  !
संपूर्ण वृत्तियों को निज में समाहित कर  ,
सारी बोधों आच्छादित कर,

 वर्तमान से परे खींच ले जाता 
 अजाने काल-खंडों में .      ,
धरी रह जाती है चाक-चौबन्द सजगता,
विदग्धता विवश ,अवधान भ्रमित ,
सारी सन्नद्धता हवा,
और दिशा-बोध खोई मैं !
  *
अचानक रुकी रह जाती हूँ
जहाँ की तहाँ -
सब अनपहचाना ,
बेगाना ,निरर्थक .
लुप्त दिशा बोध .
वहीं के वहीं ,
कौन से आयामों में उतर कर   

संपूर्ण चेतना अनायास ,
अस्तित्व विलीन  !
 *
निर्णय नहीं कर पाती -
कहाँ हूँ !
घेर लेता चतुर्दिक् जो सर्वग्रासी राग
जीने नहीं देता .
कैसी- तो अतीन्द्रियता
डुबा लेती अपने आप में .
जैसे मैं, मैं नहीं,
रह जाए अटकी-सी  ,
हवाओं में भटकती,
कोई तन्मय तान !
*

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सार्थक प्रस्तुति। स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, रविवार, दिनांक :- 17/08/2014 को "एक लड़की की शिनाख्त" :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1708 पर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह.... कमाल है. शब्दों को जब पंख लग जाए तो ..........

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब मैं नहीं तब वही वही है...अति सुंदर भाव..

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन के पड़ाव की अनुभूति का चित्रण इस से बेहतर हो ही नहीं सकता । आपके दीर्घायु की कामना करता हूँ । आखिरी सांस तक लेखनी यू ही चलती रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  6. भावनाओं का सुन्‍दर स्‍वरूप शब्‍दों में मुखर हो रहा है
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. सर्वग्रासी राग?
    मानव-मन की विधाएं अनेक,गुजरना ही होता है.

    उत्तर देंहटाएं