बुधवार, 11 जून 2014

गंगा को बहने दो अविरल.

*
निर्मल-निर्मल ,उज्ज्वल-उज्ज्वल ,गंगा को बहने दो अविरल !
गिरिराज हिमालय की कन्या , नित पुण्यमयी प्रातःवंद्या,
यह त्रिविध ताप से व्यथित  धरा ,उतरी आ कर बन ऋतंभरा.
अंबर-चुंबी शृंगों से चल ,भर  नभ-पथ का पावन हिम-जल !
*
जैसे कि फले हों सुव्रत-सुकृत,हम ऋणी ,कृतज्ञ ,हुए उपकृत ,
गिरिमालाओं से अभिषिक्ता ,वन-भू की दिव्यौषधि सिक्ता .
शत धाराओं से भुज भर मिल , कर रही प्रवाहित नेह तरल !
*
जो हरती रहीं कलुष-कल्मष ,इन लहरों में अब घुले न विष ,
तीरथ हैं सुरसरि के दो तट , इस ठौर न हों अब पाप  प्रकट.

श्रद्धा-विश्वास पहरुए हों , आस्थामय कर्म बने प्रतिफल !
 *
अपने तन-मन की विकृति कथा ,दूषणमय जीवन की जड़ता , 
इस तट मत लाना बंधु, कभी, जल में न घुलें संचित विष-सी,
चिर रहे प्रवाहित पावन जल, गंगा को बहने दो निर्मल !
*

निर्मल-निर्मल,उज्ज्वल-उज्ज्वल,बहने दो जल-धारा अविरल !
*

17 टिप्‍पणियां:

  1. भावों की यह निर्मल धारा निश्चय ही अपना मुकाम पाये. अति सुन्दर कृति.

    उत्तर देंहटाएं
  2. गंगा अब बहेगी निर्मल और अविरल..नव युग अब आ रहा है..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहती रहे ये निर्मल धारा ..अविरल...कल-कल.....
    बहुत ही सुन्दर !

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।


    उत्तर देंहटाएं
  5. शकुन्तला बहादुर13 जून 2014 को 5:16 pm

    गंगा पर मनोमुग्धकारी अत्यन्त सरस और सार्थक गीतिका पढ़ कर
    मन प्रफुल्लित होगया । शब्द-चयन और उनकी ध्वन्यात्मकता ने मन में गूँज सी उठा दी । आपकी ये कामना फलीभूत होगी - ऐसा विश्वास है ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैं तीन माँओं का बेटा हूँ ऐसा मैंने अपने परिचय में कहा है.. हालाँकि यह बात मेरे गुरु डॉ. राही मासूम रज़ा से मैंने उधार ली है. आप चौथी माँ हैं मेरी... मेरे लिये इस माँ ने मेरी गंगा माँ के लिये जो भी कुछ कहा है बस मेरे हृदय में उतर गया.. मेरा सारा बचपन और कॉलेज के सारे दिन गंगा माँ की गोद में बीते हैं, इसलिये यह कविता मेरे लिये गंगा माँ की तरह पवित्र है! शब्दों का प्रवाह ऐसा प्रतीत होता है मानो शिव की जटा से निकलकर बह रही है यह कविता.
    बस मेरा प्रणाम स्वीकारें माँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक तुही धनवान है जिज्जी, बाकी सब कंगाल :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ऐसा मत कहो भाई,यहाँ बड़े समर्थ लोग हैं -कितने क्षेत्रों में और व्यक्तित्व संपन्न!

      हटाएं
  8. बहुत सुन्दर गंगा आराधना ..जय माँ गंगे
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर शब्द चयन ।।सतीश जी ने सच ही कहा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. यह पवित्र धारा यूँ ही बहती रहे...बहुत मनभावन प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या ओज है लेखनी में.. जादू भी है.. सुकून भी है.. और भी है बहुत कुछ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. शब्दों का प्रवाह गंगा की आस्था सामान सीधे ह्रदय में उतर जाता है ... पर जो स्थिति आज गंगा की है उस पर सभी आस्थावानों को ध्यान देने की जरूरत है ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. सम्मोहक शब्द शिल्प से आश्वस्त हुआ ....कि पंत, निराला और महादेवी का युग अभी समाप्त नहीं हुआ । गंगा जी के लिये यह कामना आज की युगीन आवश्यकता है ।
    सातसमन्दर पार
    तुम्हारी गंगा पर श्रद्धा अपार
    अभिभूत हुआ मैं बारबार
    जब चाहत हो इतनी अपार
    तो क्यों न बहेगी निर्मल धार ....क्यों न बहेगी निर्मल धार !

    बहुत दिन बाद साहित्य की नदी में डुबकी लगाने का अवसर मिला ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर रचना
    मन को छूती अभिव्यक्ति
    सादर -----

    उत्तर देंहटाएं
  15. वेगवती आज़पूर्ण रचना गंगा की अमृत धार सी प्रांजल शब्द सागर लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 28/07/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    उत्तर देंहटाएं