शुक्रवार, 11 अप्रैल 2014

सूपनखा का जन्म -

*
 होली आई होली आई ,बड्डू जी ने भाँग चढ़ाई .
जा बैठे कुर्सी पर बड्डू,खाने लगे उठा कर लड्डू
मस्त हुए दस लड्डू खा कर लगे नाचने हथ उठा कर .
हँसने लगे अचानक यों ही ,बात हुई क्या बोला कोई .
*
लंका में तूफान उठा है ,हनूमान को नहीं पता है .
जीते राम, गए लंका में ,त्रिजटा पड़ी बड़ी शंका में ,
सबके पूरे हुए काम जी ,पर कुछ सोचो, अरे राम जी ,
सूपनखा अब कहाँ जायगी ,कैसे अपना घर बनायगी ?
*.
राम और लक्ष्मण जाते हैं उसका न्याय न कर पाते हैं
अब रावण भी नहीं यहाँ पर , किसके पास रहेगी जाकर .
चक्कर में पड़ गए राम जी ,उसका भी तो बने काम जी.
जुड़ी रहेगी राम-लखन से ,किन्तु काम अपने ही मन के ,
*
लक्ष्मण पुर का नाम लखनऊ,वही तुम्हारा बने धाम जू,
आधा नाम दूसरा होगा , कोई   राम   साध ही देगा
 ऐसा पहुँचा गुरु पाएगी, पर अनब्याही रह जाएगी  .
ठाठ करेगी ,राज करेगी ,मनमानी हर बात करेगी ,
*
हाथी-साथी साथ रहेंगे, लादे तेरा बोझ रहेंगे .
कलियुग में शासन की डोरी , तेरे हाथों थोरम-थोरी,
चाहे जितने ही युग बीतें ,मायाविन तेरी तरतूतें,
जुड़ी रहें माया से  माया ,सूपनखा का जनम सुनाया.
*
अब  वह धरती पर आई है ,अपनी  माया फैलाई है
इच्छा पूरी होय तुम्हारी ,पूरी कर दी जुम्मेदारी .
कुर्सी- माया जाय न जानी , बड्डू जी ने कही ज़बानी.
प्रकटी माया  राम धन्य हो ,सूपनखा कलि में प्रणम्य हो !
*

15 टिप्‍पणियां:

  1. क्या गजब का चित्रण है ..... नतमस्तक हूँ आपकी लेखनी पर .....

    जवाब देंहटाएं
  2. हमारा भी इस घोर कलि में बड्डू जी के साथ सुट्टा मारने का दिल हो रहा है..

    जवाब देंहटाएं
  3. बड्डू जी की कहानी बड़ी ज़ोरदार रही .

    जवाब देंहटाएं
  4. बड्डू जी को सलाम :)
    क्या बात बताई है
    भाँग चढ़ आई है ।

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी बाकी रचनाओं से भिन्न, मगर कमाल की मारक रचना है. देश की वर्त्तमान में चल रही गतिविधियों की अच्छी खोजखबर ली है!!

    जवाब देंहटाएं
  6. कमाल है, मंगलकामनाएं . . . .

    जवाब देंहटाएं
  7. सटीक व्यंग ... खरी है आपकी बोली :)

    जवाब देंहटाएं
  8. गज़ब गज़ब गज़ब ... पहली बार इस तरह की कोई रचना पढ़ी. मजा आ गया..

    जवाब देंहटाएं
  9. गज़ब ... कहाँ से कहाँ ले जाकर लीक पे ले आती हैं आप अपने काव्य को ... मज़ा आ गया ...

    जवाब देंहटाएं
  10. merko to samajh hi nai aayi :(:( poochh paachh ke aati hoon wapas se rachna pe..:'(

    जवाब देंहटाएं