सोमवार, 2 सितंबर 2013

जैसी हूँ...

*
जैसी हूँ  मैं ,उसी रूप में प्रभु, स्वीकार करो !
*
जो स्वभाव है भाव वही लो, गलत लग रहा हो कि सही हो ,
मनो-वासना देखो  मेरी त्रुटियाँ उर  न धरो.
भूल-भटक लौटी हूँ  द्वारे ,इन फंदों से कौन निवारे 
बीत गया जो रीत गया ,अब तुम परिताप हरो !
*
तुमने ही तो रचा मुझे यों ,धुन पर नाचे नाच, नटी ज्यों,
जैसा बना ,कर सकी जितना, अंगीकार करो .
कहाँ रहा मेरा कोई वश, बस इतना मुझसे पाया सध ,
दोषों का परिहार करो प्रभु ,अवगुण क्षमा करो.
*
पता न ये भी था करना क्या ,कैसे जीवन को भरना था 
चलती बेला में अपना लो, यह उपकार करो !
जो कुछ हुआ तुम्हीं ने प्रेरा ,कभी हुआ  क्या चाहा मेरा ,
 अंतिम परिणति पर आ पहुँची ,तुम्हीं विचार करो .
*
 अब तो जैसी हूँ वैसी  हूँ ,वृथा सोचना  क्यों ऐसी हूँ 
किसी भाँति निभ गई जगत में ,अब अनुताप हरो .
सीमित मति विचारणा मेरी, दुर्बलताएँ रहीं घनेरी  ,
लेकिन अब  दायित्व तुम्हारा,सिर पर हाथ धरो !
*
केवल यत्न देखना  मेरे, निष्फलता के दंश नहीं रे 
क्या खोया क्या पाया अब तक, तुम्हीं हिसाब करो , 
गहन कृष्णमयता में सारे , कलुष समा लो मोहन, मेरे
मेरे अंतर्यामी, मन के विषम विषाद हरो  !
*

21 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर ! एक समर्पित हृदय के प्रेरक उद्गार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढिया.. आभा शिप्रा जी..

    उत्तर देंहटाएं
  3. भक्ति और समर्पण भाव से ओतप्रोत बहुत खुबसूरत अभिव्यक्ति प्रतिभा जी !
    latest post नसीहत

    उत्तर देंहटाएं
  4. पूर्णतः समर्पित हो के जीने की प्रेरणा है ये गीत ... जो है जैसा है उसे स्वीकारना ही होगा उस प्रभू को ... कैसे नहीं स्वीकारेगा ... ये बस उसका ही दायित्व है ...
    ऐसे निर्मल वंदन हों तो बेबस हैं प्रभू भी ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस पवित्र लेखनी को नमस्कार

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब तो जैसी हूँ वैसी हूँ ,वृथा सोचना क्यों ऐसी हूँ
    किसी भाँति निभ गई जगत में ,अब अनुताप हरो .
    सीमित मति विचारणा मेरी, दुर्बलताएँ रहीं घनेरी ,
    तुम्हीं फैसला करनेवाले सिर पर हाथ धरो !…।

    प्रभु अब तो उद्धार करो

    उत्तर देंहटाएं
  7. जिन्दगी के यथार्थ को बताती सार्थक अभिवयक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुंदर समर्पण भाव को अभिव्यक्त करती रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - बुधवार -4/09/2013 को
    मर्त्य देश के निवासी - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः12 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    उत्तर देंहटाएं
  10. ये सहजता ही प्रभु को प्यारा है
    उसने जैसा चाहा हमें संवारा है
    जिसने भी सहर्ष इसे स्वीकारा है
    वो उनका अधिक दुलारा है..

    उत्तर देंहटाएं
  11. सब कुछ ईश्वर पर छोड़ सम्पूर्ण रूप से ईश्वर को समर्पित कर निश्चिंत मन हो जाता है .... बहुत सुंदर भाव ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर रचना...
    आप की ये रचना आने वाले शुकरवार यानी 6 सितंबर 2013 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है...आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है... आप इस हलचल में शामिल अन्य रचनाओं पर भी अपनी दृष्टि डालें...इस संदर्भ में आप के सुझावों का स्वागत है...



    कविता मंच[आप सब का मंच]


    हमारा अतीत [जो खो गया है उसे वापिस लाने में आप भी कुछ अवश्य लिखें]

    मन का मंथन [मेरे विचारों का दर्पण]

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी हर रचना बेहतरीन होती है !

    उत्तर देंहटाएं
  14. भावपूर्ण समर्पण...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  15. samarpan me hi shanti hai ........moksh hai ...jb bhi ye bhav prakat hota hai to samjho eeshwar door nahi .....

    rachana bilkul sangrhneey lagi ......sadar aabhar saxena ji .

    उत्तर देंहटाएं
  16. ऐसा सुन्दर समर्पण गीत पढ़ मैं भी नत हुआ!

    उत्तर देंहटाएं
  17. antas to jaanta hi hai is satya ko..kitnu samay kuch aisa hai..k apne hriday kee baat kam sunayi deti hai...aur jab bol kar keh kar hum apne hi dil ki baat padhte hain to mann aanand me bhaav vibhor ho jata hai...kuch aisa hi hua mere saath bhi...:)
    kitni sehajta se rom rom me aapki rachna ne samarpan kee gehan bhaavna ghol di..!
    bahut aabhaar pratibha jee is bhavnamayi rachna hetu.

    (bhagwanji padhenge to kahenge ki ,'' bhala ye bhi koi kehne kee baat hai'' !! :) :D..)

    उत्तर देंहटाएं