रविवार, 15 अगस्त 2010

व्याध का तीर

*
ये सब तो मात्र  मोहरे थे
यहाँ की चालों के .
इस महासमर की भूमिका
बहुत पहले से लिखी जाने लगी थी.
 *
जब बुढ़ापे  की सर्वनाशी वासना ,
यौवन का उजला भविष्य निगल गई.
स्वयंवरा कन्या को लूट का माल बना
निःसत्व रोगियों के हवाले कर दिया गया.
*
 वंश न पांडु का,  न कुरु का.
बीज बो गया  धीवर-कन्या का पुत्र
 भयभीत और वितृष्णामय परिवेश में ,
उन  विकृत संतानो  का इतिहास कितना चलता ?
जहाँ विवश नारी ,
पति का मुख देखे बिना

आँखों पर पट्टी बाँध
यंत्रवत् पैदा कर दे सौ पुत्र

*
धर्म और नीति की ओट ले
 जो चालें चली गईं -
एक  द्रौपदी ही नहीं ,
क्या-क्या दांव लगाते गए वे लोग ,
होना ही था महासमर !
*
रामायण और महाभारत !
एक व्याध का  तीर
कर गया
एक युग-कथा का प्रारंभ ,
और दूसरी का समापन .
*
बीत गए दोनों ,
पर बीत कर भी
 कहीँ अटका ही रह गया है .
बहुत कुछ .
*


9 टिप्‍पणियां:

  1. ये सब तो मात्र मोहरे थे
    यहाँ की चालों के .
    इस महासमर की भूमिका
    बहुत पहले से लिखी जाने लगी थी.


    बेहद प्रभावशाली पोस्ट !
    samay हो तो अवश्य पढ़ें:

    पंद्रह अगस्त यानी किसानों के माथे पर पुलिस का डंडा
    http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_15.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सटीक प्रस्तुतिकरण ....सच यह सब तो मोहरे थे ..

    वंश न पांडु का, न कुरु का.
    बीज बो गया धीवर-कन्या का पुत्र
    भयभीत और वितृष्णामय परिवेश में ,
    कटु सत्य को बताती रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बीत गए दोनों ,
    पर बीत कर भी
    कहीँ अटका ही रह गया है .
    बहुत कुछ .

    कितने दिनों तक घुमड़ेंगे ये बादल...ऐसे ही तो नहीं लिखा जाता ऐसा...आपका लिखा हुआ पढना एक अनुभव को जीना है.

    बहुत धन्यवाद इसे लिखने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मंगलवार 17 अगस्त को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ....आपका इंतज़ार रहेगा ..आपकी अभिव्यक्ति ही हमारी प्रेरणा है ... आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर प्रस्तुति!


    “कोई देश विदेशी भाषा के द्वारा न तो उन्नति कर सकता है और ना ही राष्ट्रीय भावना की अभिव्यक्ति।”

    उत्तर देंहटाएं
  6. कभी कभी तो सच में ही लगता है कि यह महासमर होना ही था। बहुत सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  7. .
    बेहद प्रभावशाली पोस्ट !

    zealzen.blogspot.com

    ZEAL

    उत्तर देंहटाएं