रविवार, 13 नवंबर 2011

वृन्दावन- धाम.


*
रे मन,चल वृन्दावन- धाम !
*
जहँ निचिंत, गत शोक-मोह ,व्यापे न कुमति -अज्ञान ,
घिरें न बोझिल मेघ ,तपन के मौसम घिरें न आन !
*
भटक-भटक कर थकी देह औ' सधा न कौनो काम ,
कोई न स्वजन ,अजाना हर जन ,ऐसे  जग हिं प्रणाम !
*
जहां न दुख का लेश ,थकित तन को अनंत विश्राम ,
शंका  ग्रसै,  न डसै भीति ,चल रे, उहि लोक ललाम !
*

20 टिप्‍पणियां:

  1. ओह!
    बहुत दिन हो गए वृन्दावन धाम गए हुए। फिलहाल तो गाकर काम चला लिया है। जाकर -- फिर कभी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. pratibha ji me exactly vrindawan to nahi gayi han lekin mathura jaroor gayi thi kuchh mahino pahle. vaha jakar logo k kareeb rah kar yahi jana ki vo log bahut imandar, dwesh rahit hain hamare comparitively.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वृन्दावन जाने की उत्कंठा जगा दी है .. सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. जहाँ आप हैं वहीँ वृन्दावन है ....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. अहा! मन मोह लिया इस छन्द ने प्रतिभाजी! ज़मीन से जुड़ी भाषा में लिखीं और मन की शीतलता ढूंढती ये चन्द पंक्तियाँ "मेरो मन अनत कहाँ सुख पावे" की याद दिला गईं.
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. भटक-भटक कर थकी देह औ' सधा न कौनो काम ,
    कोई न स्वजन ,अजाना हर जन ,ऐसे जग हिं प्रणाम !

    आपकी रचना धर्मिता को हमारा प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  8. ब्लागरी को दें आराम..

    रे मन चल वृंदावन धाम।
    ..सुंदर भजन।

    उत्तर देंहटाएं
  9. रे मन,चल वृन्दावन- धाम !


    -sach ab yahi karna hai....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बहुत सुंदर और सरल रचना है :) मेरा मन भी भर आया...काश मैं भी जल्दी से जल्दी जा सकूँ वृन्दावन!!

    :(

    उत्तर देंहटाएं
  11. रे मन,चल वृन्दावन- धाम !
    *
    जहँ निचिंत, गत शोक-मोह ,व्यापे न कुमति -अज्ञान ,
    घिरें न बोझिल मेघ ,तपन के मौसम घिरें न आन !

    ....भक्तिविभोर करती बहुत मनमोहक अभिव्यक्ति...मन कृष्णमय होगया..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. कभी-कभी मन भी विश्राम चाहता है,. उसके लिए वृन्दावन धाम से बेहतर क्या होगा...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खूबसूरत रचना ..व्रन्दावन धाम की तो
    महिमा ही अपर है ..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. Beautiful blog, I read quite some now, and I love your originality,
    From everything is canvas

    उत्तर देंहटाएं