रविवार, 24 अक्तूबर 2010

व्याप्ति-

*
विषम क्षणों में
 उचाट हो टेर उठता
अंतस्थ आत्म जब
सर्व व्याप्त परमात्म को,
एक स्निग्घ बोध जाग जाता  अनायास -
कि कहीं कुछ और नहीं ,
बस एक सत्ता
अपने आप में
लघु नहीं, संपूर्ण मैं .
*
आत्म में निवसित बाह्य-निरपेक्ष.
सारे बोध, भावना ,विचारणा ,संकल्पना ,
व्यवधानरहित ,
सम्पूर्ण मानसिक सत्ता एकात्म!
अवरोध हीन
वर्जना रहित.
*
सतत चैतन्य
स्थिर ,अचल ,उदग्र
अनुपम ऋत की पारणा ज्यों,
मेरा निजत्व .
जैसे रची हुई सारी सृष्टि
मेरे भीतर -बाहर,
आत्म-निहित और सर्वत्र .
*
एक ही तार की झंकार
कभी वेदना -उल्लास कभी विराग-राग .
उस व्याप्ति मैं ,
कहीं नहीं कोई और
किसी का मानना-जानना
कोई अर्थ नहीं रखता जहाँ
विराट् चैतन्य से समाहित ,
*
अत्यल्प अवधि को भले ,
समाधि स्वरूपा ,
मुझ में लयलीन
अपरूप दिव्य,
ओ,मेरी व्याप्ति
प्रणाम तुम्हें !

*

10 टिप्‍पणियां:

  1. लघुता और प्रभुता के बीच बहे मन का अप्रतिम प्रवाह जब शब्द बन बहा तब सागर पहुँच कर ही शान्ति मिली। आपकी प्रतिभा को नमन।

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रणाम इस सम्पूर्णता को, उस महि को जो सम्पूर्णता को समाहित किये है..आपको, जो उसे आत्मसात करके व्यक्त कर गयीं..

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक ही तार की झंकार
    कभी वेदना -उल्लास कभी विराग-राग .
    उस व्याप्ति मैं ,
    कहीं नहीं कोई और
    किसी का मानना-जानना
    कोई अर्थ नहीं रखता जहाँ..

    A precious creation !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रणाम
    क्या बात है कल ही शिप्रा कालीदास और उज्जैन को याद कर रहा था
    ताज़ा पोस्ट विरहणी का प्रेम गीत

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप को सपरिवार दीपावली मंगलमय एवं शुभ हो!
    मैं आपके -शारीरिक स्वास्थ्य तथा खुशहाली की कामना करता हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. सराहनीय लेखन....हेतु बधाइयाँ...ऽ. ऽ. ऽ
    चिठ्ठाकारी के लिए, मुझे आप पर गर्व।
    मंगलमय हो आपको, सदा ज्योति का पर्व॥
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी
    ----------------------------------

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्वयं का स्वयं से बोध कराती आपकी कविता मन को उद्वेलित कर गई !
    इतनी भावपूर्ण रचना हेतु बधाई स्वीकार करें!
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  8. बस एक सत्ता
    अपने आप में
    लघु नहीं, संपूर्ण मैं
    निज की लघुत और संपूर्णता के बोध के बीच से उपजी अत्यंत सारगर्भित रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है! हार्दिक शुभकामनाएं!
    लघुकथा – शांति का दूत

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक ही तार की झन्कार , कभी वेदना उल्लास कभी विराग राग्।
    अति उत्तम।

    उत्तर देंहटाएं